Sunday , December 16 2018

अगले 48 घंटों तक इंटरनेट यूजर्स को होगी परेशानी, पूरी दुनिया में शटडाउन का खतरा

पूरी दुनिया में इंटरनेट यूजर्स को अगले 48 घंटों के दौरान भारी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. नेटवर्क फेल्युर के कारण इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रभावित होगी. मुख्य डोमेन सर्वर पर मैंटेनेंस का काम होगा. इस दौरान इंटरनेट की उपलब्धता प्रभावित होगी. रशिया टुडे की रिपोर्ट की मानें तो पूरी दुनिया में इंटरनेट यूजर्स नेटवर्क कनेक्शन के बाधित होने से परेशान होंगे. मैन डोमेन का काम होने से स्पीड प्रभावित होगी. कुछ समय तक स्थिति ऐसी ही रहने की संभावना है.

जिस दौरान पूरी दुनिया में इंटरनेट की स्पीड प्रभावित होगी उस समय इंटरनेट कॉर्पोरेशन ऑफ असाइन्ड नेम्स एंड नंबर्स मेंटनेंस का काम करेगी. ये काम क्रिप्टोग्राफी की को बदलकर किया जाएगा. इससे इंटरनेट की एड्रेस बुक या डोमेन नेम सिस्टम को प्रोटेक्ट करने में मदद मिलेगी. ICANN का कहना है कि इससे साइबर अटैक की बढ़ती घटनाओं से बचा जा सकेगा. इसी लिए इस मेंटेनेंस के काम को किया जा रहा है.

कम्युनिकेशन्स रेगुलेटरी अथॉरिटी (CRA) ने अपने एक बयान में कहा, सुरक्षा, स्थिरता के लिए पूरी दुनिया में इस तरह का इंटरनेट शटडाउन बेहद जरूरी है. अथॉरिटी ने बताया, ‘अगर यूजर्स के नेटवर्क ऑपरेटर्स या इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स (ISPs) इस बदलाव के लिए तैयार नहीं हैं तो उन्हें इस स्लोडाउन से परेशानी हो सकती है. हालांकि, ये भी स्पष्ट कर दिया गया है कि सिस्टम सिक्यॉरिटी एक्सटेंशन्स को इनेबल कर इस प्रभाव को कम किया जा सकता है.’

इंटरनेट यूजर्स अगर ऐसे ISP का इस्तेमाल करते हैं, जो आउटडेटेड है तो उन्हें इंटरनेट नेटवर्क को एक्सेस करने में परेशानी हो सकती है. अगले 48 घंटों के दौरान वेब पेज ऐक्सेस करने या किसी ट्रांजेक्शन में दिक्कतें हो सकती हैं. इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को वेबपेज को खोलने या अगले 48 घंटों में लेन-देन करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है. मैंटेनेंस का काम करने वाली ICANN  (इंटरेट कॉर्पोरेशन फॉर असाइंड नेम्स एंड नंबर्स) दुनिया भर में इंटरनेट नेटवर्क के रख रखाव और सिक्योर करने का काम करता है. इसके अलावा यही ऑर्गनाइजेशन IP अड्रेस स्पेस, प्रोटोकॉल पैरामीटर, DNS मैनेजमेंट और रूट सर्वर सिस्टम मैनेजमेंट फंक्शन का काम करती है. यह ऑर्गनाइजेशन सेंट्रल इंटरनेट ऐक्सेस का टेक्निकल मेंनटेनेंस का काम करता है.

E-Paper

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com