Monday , March 30 2020

योगी सरकार के बजट में नौजवान, अवस्थापना और आस्था के लिए भारी भरकम रकम

योगी सरकार के बजट में नौजवान, अवस्थापना और आस्था के लिए भारी भरकम रकम

आशीष अवस्थी

लखनऊ

योगी सरकार का इस साल का बजट युवाओं के लिए खास है। प्रशिक्षण, नौकरी, स्वरोजगार और उद्यमिता को लेकर युवाओं के लिए खास पैकेज के साथ मंगलवार को योगी सरकार ने अपना भारी भरकम 5.12 लाख करोड़ रुपये का बजट विधानसभा में पेश किया।

बजट पेश होने के तुरंत बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह प्रधानमंत्री मोदी के 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी में उत्तर प्रदेश की भूमिका तय करने वाला है। उन्होंने कहा कि यह प्रदेश के इतिहास का सबसे बड़ा बजट है और 5 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का यह बजट प्रदेश के सम्पूर्ण विकास के लिए है। हमारी सरकार का यह चौथा बजट युवाओं को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। युवाओं के स्वरोजगार के लिए हर जनपद की योजना इस बजट में है। कई कल्याणकारी योजनाओं को समाहित किये यह बजट युवाओं को समर्पित है।

योगी सरकार के इस बार के बजट में जहां अवस्थापना सुविधाओं की बड़ी परियोजनाओं जैसे एक्सप्रेस वे, मेट्रो, सड़कों, हवाई अड्डों व कालेजों व विश्वविद्यालयों के लिए खासा धन का आवंटन किया गया है वहीं पेयजल व जनकल्याणकारी योजनाओं के लिए भी अच्छी धनराशि की व्यवस्था की गयी है।

इस बार बजट का आकार 5.12 लाख करोड़ रुपये है जोकि पिछले साल के मुकाबले करीब 7 फीसदी ज्यादा है। राजकोषीय घाटे बीते साल की ही तरह इस बार भी 2.97 फीसदी है। बजट में 10967 करोड़ रुपये की नयी योजनाएं शामिल की गयी हैं। प्रदेश की सड़कों के लिए लोक निर्माण विभाग, ग्रामीण सड़क परियोजना, विश्व बैंक परियोजना व अन्य को बजट में लगभग 7400 करोड़ रुपये की धनराशि दी जा रही है। हर घर तक नल से पानी पहुंचाने के मिशन पर आगे बढ़ते हुए प्रदेश सरकार ने लगभग 9000 करोड़ रुपये का आवंटन विभिन्न योजनाओं में किया है।

प्रदेश के लाखो प्रशिक्षित नौजवानों को उद्यमी बनाने के लिए योगी सरकार ने युवा हब के नाम से नयी योजना का एलान इस बार के बजट में किया है। इस योजना के तहत 1200 करोड़ रुपये के आवंटन के साथ एक लाख नौजवानों को उद्यमी बनाने का अनुमान है। प्रदेश के हर जिले में युवा हब की स्थापना के लिए 50 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गयी है।

गौरतलब है कि बीते साल योगी सरकार ने 4.79 लाख करोड़ रुपये का बजट पेश किया था जिसमें 21212 करोड़ रुपये की नयी योजनाएं शामिल की गयी थीं।

मंगलवार को विधानसभा में वित्त वर्ष 2020-21 का सालाना बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि युवाओं, महिलाओं, किसानों पर खास फोकस के साथ प्रदेश में अवस्थापना सुविधाओं के लिए खासी धनराशि का आवंटन किया गया है।

बजट में गंगा एक्सप्रेस वे के लिए 2000 करोड़ रुपये तो जेवर अंतरर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट के लिए भी 2000 करोड़ रुपये की धनराशि का आवंटन किया गया है। अयोध्या में बन रहे एयरपोर्ट के लिए 500 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है वहीं रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत नए हवाई अड्डों के लिए बजट में 92.50 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। सालाना बजट में दिल्ली से मेरठ रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्सटम के लिए 900 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। कानपुर मेट्रो रेल परियोजना के लिए 358 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है तो आगरा मेट्रों के लिए बजट में 286 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। गोरखपुर व अन्य शहरों में मेट्रो के संचालन के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआऱ) तैयार की जा रही है। बजट में इन मेट्रों परियोजनाओं के डीपीआर के लिए 200 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना के लिए इस बार भी बीते साल के बजट की तरह 250 करोड़ रुपये का प्रावधान है।

योगी सरकार के बजट में राज्य वस्तु एवं सेवा कर (एसजीएसटी) और पेट्रोलियम उत्पादों पर लगने वाले मूल्य संवर्द्धित कर (वैट) से 91568 करोड़ रुपये की वसूली का लक्ष्य रखा गया है जबकि पिछले बजट में यह लक्ष्य 77640 करोड़ रुपये का था।

प्रदेश सरकार के इस बार के बजट में आबकारी शुल्क से 37500 करोड़ रुपये की प्राप्ति का अनुमान रखा गया है पिछली बार यह लक्ष्य 31517 करोड़ रुपये था। इसी तरह स्टांप एवं पंजीयन शुल्क से 23197 करोड़ रुपये की प्राप्ति का अनुमान है जबकि बीते साल के बजट में स्टांप शुल्क से 19179 करोड़ रुपये के राजस्व प्राप्ति का लक्ष्य रखा गया था। वाहन कर के मद में इस बार के बजट में 8650 करोड़ रुपये की प्राप्ति का लक्ष्य रखा गया है।

वित्त मंत्री सुरेश खन्ना के बजट भाषण में आस्था को लेकर सरकार की फिक्र साफ नजर आयी अयोध्या में एयरपोर्ट के लिए 500 करोड़ रुपये आवंटन के साथ ही यहां उच्च स्तरीय पर्यटक अवस्थापना सुविधाओं के विकास के लिए 85 करोड़ रुपये व तुलसी स्मारक भवन के लिए 10 करोड़ रुपये व्यवस्था की गयी है। वाराणसी में संस्कृति केंद्र की स्थापना के लिए 180 करोड़ रुपये और पर्यटन ईकाई के प्रोत्साहन के लिए 50 करोड़ रुपये की व्यवस्था बजट में की गयी है। काशी विश्वनाथ मंदिर के लिए 200 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के क्षेत्र गोरखपुर में रामगढ़ ताल में वाटर स्पोर्ट्स के लिए 25 करोड़ रुपये दिए गए हैं।

E-Paper

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com