उत्तराखंड में डरा रहा मौसम, बारिश के दौरान पेड़ गिरने से युवक की मौत

उत्तराखंड में बरसात का मौसम अब लोगों को डराने लगा है। लगातार बारिश के चलते नदियों का जलस्तर बढ़ने लगा है। वहीं, सड़कों के बंद होने का सिलसिला जारी है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी दी है। वहीं, बारिश के दौरान पेड़ गिरने के दौरान इसकी चपेट में आने से विकासनगर क्षेत्र में एक युवक की मौत हो गई। उत्तराखंड में बरसात का मौसम अब लोगों को डराने लगा है। लगातार बारिश के चलते नदियों का जलस्तर बढ़ने लगा है। वहीं, सड़कों के बंद होने का सिलसिला जारी है। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी दी है। वहीं, बारिश के दौरान पेड़ गिरने के दौरान इसकी चपेट में आने से विकासनगर क्षेत्र में एक युवक की मौत हो गई।    विकासनगर क्षेत्र के बरोटीवाला के पृथ्वीपुर खेड़ा में बारिश के दौरान पेड़ गिरने से इसकी चपेट में आकर बाइक सवार की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि सिंचाई विभाग सेलाकुईं में कार्यरत तसीम (26 वर्ष) पुत्र यामीन अपने घर जीवनगढ़ से बाइक पर सवार होकर ड्यूटी को जा रहा था। तभी यह हादसा हो गया।     उत्तराखंड में गत दिवस सुबह के समय बारिश ने जमकर कहर बरपाया था। दून में सात लोगों की मौत हो गई थी। इनमें चार मकान की दीवार के मलबे में दब गए थे। वहीं तीन लोग अलग-अलग स्थान पर बरसाती नदियों के बहाव की चपेट में आ गए थे। वहीं पिथौरागढ़ और बागेश्वर के कपकोट में भी नुकसान हुआ था।    उत्तराखंड में 22 जून को पहुंचेगा मानसून, इससे पहले बारिश का दौर जारी यह भी पढ़ें आधी रात के बाद से उत्तराखंड में फिर से रिमझिम बारिश का दौर शुरू हो गया। देहरादून, ऋषिकेश, कोटद्वार, मसूरी, टिहरी पौड़ी सहित कई स्थानों पर रुक-रुक कर बारिश हो रही है। लगातार बारिश से उत्तरकाशी में भागीरथी का जलस्तर खतरे से निशान से दो मीटर नीचे बह रहा है।   वहीं, ऋषिकेश क्षेत्र में सौंग, सुसवा नदी का जलस्तर बढ़ने से तटवर्ती इलाकों में रायवाला, साहबनगर, चकजोगीवाला, ठाकुरपुर, गौहरी माफी, हरिपुर कला सहित कई गांवों के लोग डरे हुए हैं। यहां हर साल बाढ़ से नुकसान पहुंचता है।    उत्तराखंड में बदला मौसम का मिजाज, कुमाऊं में बारिश से बुझी जंगलों में आग यह भी पढ़ें उत्तरकाशी में गंगोत्री हाईवे सुचारु है, लेकिन यमुनोत्री हाईवे डाबरकोट के निकट मलबा आने से फिर से बंद हो गया। ऐसे में करीब 50 यात्री स्यानाचट्टी में रुके हैं। वहीं, केदारनाथ, बदरीनाथ व हेमकुंड यात्रा सुचारु है।   टिहरी जनपद में ऋषिकेश गंगोत्री राजमार्ग भी फकोट ताछला में तड़के करीब चार बजे बंद हो गया था। इसे खोल दिया गया। कद्दूखाल के पास भी सड़क पर मलबा आने से बार-बार यातायात बाधित हो रहा है।

विकासनगर क्षेत्र के बरोटीवाला के पृथ्वीपुर खेड़ा में बारिश के दौरान पेड़ गिरने से इसकी चपेट में आकर बाइक सवार की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि सिंचाई विभाग सेलाकुईं में कार्यरत तसीम (26 वर्ष) पुत्र यामीन अपने घर जीवनगढ़ से बाइक पर सवार होकर ड्यूटी को जा रहा था। तभी यह हादसा हो गया। 

उत्तराखंड में गत दिवस सुबह के समय बारिश ने जमकर कहर बरपाया था। दून में सात लोगों की मौत हो गई थी। इनमें चार मकान की दीवार के मलबे में दब गए थे। वहीं तीन लोग अलग-अलग स्थान पर बरसाती नदियों के बहाव की चपेट में आ गए थे। वहीं पिथौरागढ़ और बागेश्वर के कपकोट में भी नुकसान हुआ था। 

आधी रात के बाद से उत्तराखंड में फिर से रिमझिम बारिश का दौर शुरू हो गया। देहरादून, ऋषिकेश, कोटद्वार, मसूरी, टिहरी पौड़ी सहित कई स्थानों पर रुक-रुक कर बारिश हो रही है। लगातार बारिश से उत्तरकाशी में भागीरथी का जलस्तर खतरे से निशान से दो मीटर नीचे बह रहा है। 

वहीं, ऋषिकेश क्षेत्र में सौंग, सुसवा नदी का जलस्तर बढ़ने से तटवर्ती इलाकों में रायवाला, साहबनगर, चकजोगीवाला, ठाकुरपुर, गौहरी माफी, हरिपुर कला सहित कई गांवों के लोग डरे हुए हैं। यहां हर साल बाढ़ से नुकसान पहुंचता है। 

उत्तरकाशी में गंगोत्री हाईवे सुचारु है, लेकिन यमुनोत्री हाईवे डाबरकोट के निकट मलबा आने से फिर से बंद हो गया। ऐसे में करीब 50 यात्री स्यानाचट्टी में रुके हैं। वहीं, केदारनाथ, बदरीनाथ व हेमकुंड यात्रा सुचारु है। 

टिहरी जनपद में ऋषिकेश गंगोत्री राजमार्ग भी फकोट ताछला में तड़के करीब चार बजे बंद हो गया था। इसे खोल दिया गया। कद्दूखाल के पास भी सड़क पर मलबा आने से बार-बार यातायात बाधित हो रहा है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper