छोटे उद्योगों की मदद के लिए सिडबी ने गूगल से मिलाया हाथ, बनाया 110 करोड़ का फंड


लखनऊ
सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) के संवर्द्धन, वित्तपोषण और विकास में संलग्न शीर्ष वित्तीय संस्थान, भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) ने सूक्ष्म उद्योगों को प्रतिस्पर्धी ब्याज दरों पर एक करोड़ रुपये तक की आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए सामाजिक प्रभाव ऋण कार्यक्रम के तहत गूगल के साथ साझेदारी की है। इस कार्यक्रम के तहत गूगल इंडिया ने 110 करोड़ रुपये का कार्पस फंड रखा है जिसे सिडबी के साथ मिलकर छोटे उद्योगों को उपलब्ध कराया जाएगा।
गूगल इंडिया और सिडबी अपने तरह के इस अनूठे कार्यक्रम के जरिए भारत में कोविड-19 के दौरान दिक्कतों में आए एमएसएमई सेक्टर को पुनर्जीवित करने में मदद करेंगे। सिडबी कार्यक्रम के तहत उन छोटे उद्यमों को कर्ज मुहैय्या कराएगी जिनका टर्नओवर पांच करोड़ रुपए तक है। इस तरह के उद्योगों को 25 लाख से एक करोड़ रुपये तक का ऋण मिलेगा। गूगल के साथ हुयी इस साझेदारी के तहत सिडबी महिला उद्यमियों की ईकाईयों को ऋण देने में न केवल वरीयता देगी बल्कि उनके लिए ब्याज दरों में भी रियायत दी जाएगी।
इस साझेदारी के बारे में सिडबी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक श्री सिवसुब्रमणियन रमण, आईए एंड एएस ने कहा कि एमएसएमई भारतीय अर्थव्यवस्था में जीवनदायिनी रक्त की तरह है जो विकास और सामाजिक परिवर्तन में मदद करती हैं। इस क्षेत्र के टिकाउ विकास के लिए अपनी प्रतिबद्धता के क्रम में सिडबी ने इस साल अप्रैल में घटी ब्याज दरों वाले कई उत्पाद जैसे सेफ, सेफ प्लस, आरोग व श्वास पेश किए थे ताकि एमएसएमई को कोविड-19 महामारी का मुकाबला करने के लिए आक्सीजन सिलेंडर, आक्सीमीटर जैसे अन्य जरुरी सामानों की आपूर्ति बढ़ाने में सक्षम बनाया जा सके। आज हमें इस क्षेत्र को पुनर्जीवित के प्रयासों में गूगल इंडिया जैसे प्रतिबद्ध व ईमानदार सहयोगी के साथ साझेदारी करते हुए प्रसन्नता हो रही है। इसी के साथ सिडबी की अपने ग्राहकों को सभी कामों सहित ऋण देने के पेपरलेस कार्य की यात्रा की भी शुरुआत हो रही है। हमें उम्मीद है कि इस साझेदारी के बाद एमएसएमई क्षेत्र को आगे बढ़ने में सकारात्मक मदद मिलेगी।
इस मौके पर बोलते हुए गूगल इंडिया के कंट्री मैनेजर व वाइस प्रेसिडेंट, श्री संजय गुप्ता ने कहा कि हमारा लंबे अरसे से संकल्प रहा है कि डिजिटल तरीकों की मदद से इस क्षेत्र को अपने ग्राहकों को टूल्स, सेवाओं व उत्पादों के जरिए पहुंच बनाने में सहायक हो सके। सिडबी के साथ साझेदारी इस क्षेत्र को आगे बढ़ने में मदद करेगी।

Related Articles

Back to top button
E-Paper