नहीं रहे पूर्व राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी, 84 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

नई दिल्‍ली। पूर्व राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी का आज निधन हो गया। 84 साल की उम्र में उन्‍होंने अपनी अंतिम सांस ली। बता दें कि प्रणब मुखर्जी का दिल्‍ली के आर्मी अस्‍पताल में इलाज चल रहा था। प्रणब मुखर्जी बीते कई दिनों से डीप कोमा में थे।

पूर्व राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी

बीते दिनों प्रणब मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। पूर्व राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी ने ट्वीट कर प्रणब मुखर्जी के निधन की जानकारी दी है।

अस्पताल में भर्ती प्रणब मुखर्जी की पिछले 10 दिनों से हालत लगातार बिगड़ती जा रही थी। सेना के रिसर्च और रेफरल (आरएंडआर) अस्पताल, दिल्ली कैंट ने सोमवार को सुबह प्रणब मुखर्जी का स्वास्थ्य बुलेटिन जारी कर कहा था कि मरीज की तबीयत कल से और खराब हुई है। वे फेफड़ों में संक्रमण की वजह से सेप्टिक शॉक की स्थिति में हैं। उन पर विशेषज्ञों की एक टीम लगातार नजर रख रही है। वे अब भी गहरे कोमा में और वेंटिलेटर पर हैं। बता दें कि इसी महीने उनकी ब्रेन सर्जरी हुई थी।

84 वर्षीय प्रणब मुखर्जी को गंभीर हालत में 10 अगस्त को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल में जांच के दौरान मस्तिष्क में खून के थक्के होने की बात सामने आई और इसके बाद उनकी आपातकालीन जीवन रक्षक सर्जरी हुई थी। सर्जरी के बाद से वह वेंटिलेटर पर हैं और उनकी स्थिति अब भी गंभीर हैं। वह कोरोना पॉजिटिव भी थे।

प्रणब मुखर्जी वर्ष 2012 से 2018 तक राष्ट्रपति पद की गरिमा बनाये हुए थे। प्रणब जी भारत के राष्ट्रपति बनने से पहले मनमोहन सिंह की सरकार में वित्त मंत्री बने थे। प्रणब जी भारत के आर्थिक मामलों, संसदीय कार्य, बुनियादी सुविधाएं व सुरक्षा समिति में वरिष्ठ नेता रहे हैं।

साल 2019 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। प्रणब मुखर्जी को खराब स्वास्थ्य के कारण 10 अगस्त को दिल्ली के RR अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके मस्तिष्क में खून का थक्का जमने के बाद सर्जरी की गई थी।

राष्ट्रपति सहित कई दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि

प्रणब मुखर्जी के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी। रामनाथ कोविंद ने ट्वीट में लिखा कि प्रणब मुखर्जी के निधन की खबर सुनकर दुख हुआ। उनका जाना एक युग का अंत है। प्रणब मुखर्जी ने देश की सेवा की, आज उनके जाने पर पूरा देश दुखी है।

 

Related Articles

Back to top button
E-Paper