महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने दिया लॉकडाउन का संकेत

मुंबई। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में जिस तरीके से कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है, उसे देखते हुए वे विशेषज्ञों से चर्चा करेंगे। अगर कोई उपाय नहीं मिला तो आगामी दो दिनों में लॉकडाउन लगाना अपरिहार्य रहेगा। उन्होंने लॉकडाउन पर धमकी देने वालों पर करारा हमला करते हुए कहा कि इस तरह की धमकी देने वाले रास्ते पर उतर कर कोरोना संक्रमितों की मदद करें।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को राज्य में कोरोना समीक्षा बैठक की थी। इस बैठक के बाद वे वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री राज्य की जनता को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या हर दिन बढ़ती जा रही है। पिछले वर्ष सितंबर महीने में सिर्फ एक दिन सर्वाधिक 24 हजार कोरोना संक्रमित मिले थे लेकिन 2 अप्रैल को राज्य में सर्वाधिक 43 हजार कोरोना संक्रमित मिले हैं। यह संख्या अगर इसी तरह बढ़ती रही तो आगामी 10-15 दिनों में अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगेंगे।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि पिछले वर्ष मार्च महीने में जब कोरोना का आगमन हुआ था उस समय राज्य में सिर्फ कोरोना जांच के लिए दो लैब थे और 500 जांच प्रतिदिन हो रही थी। अब राज्य में 500 लैब हैं और हर दिन 1 लाख 82 हजार जांच हो रही है। राज्य सरकार का लक्ष्य 3 लाख जांच का है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के लिए बेड, आक्सीजन, वेंटिलेटर की कमी नहीं पडऩे दी जाएगी लेकिन कोरोना की अगर इसी तरह संख्या बढ़ती रही तो डॉक्टर ,नर्स व स्वास्थ्यकर्मी कहां से लाएंगे। उन्होंने कहा कि उनकी प्राथमिकता लोगों की जान बचाने की है, इसके लिए वे कठोर निर्णय लेने से पीछे नहीं हटने वाले हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की वजह से विश्व के कई देशों में स्थिति विकट हो गई है। कई देशों में दूसरी बार तो कई देशों में तिसरी बार लॉकडाउन लगाया गया है। इसलिए आगामी दो दिनों में वे इस क्षेत्र से विशेषज्ञों से चर्चा करने वाले हैं। इस चर्चा में अगर लॉकडाउन का पर्याय नहीं मिला तो निश्चित रुप से राज्य में लॉकडाउन लगाया जाएगा। 

Related Articles

Back to top button
E-Paper