विधानसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- अपराध किसी भी प्रकार का हो अक्षम्य है,महिला सम्बन्धी अपराध पर सरकार कठोरता पूर्वक कार्रवाई कर रही है

ये भारतीय जनता पार्टी की सरकार है जहाँ अपराधियों के बारे में ये नही कहा जाता कि लड़के हैं,गलती कर देते हैं,अगर अपराधी है तो कोई भी हो ज़ीरो टॉलरेंस के तहत कार्रवाई होती है,नेता प्रतिपक्ष इस बात को अच्छे से समझते हैं,जानते हैं और स्वीकार भी करते हैं कि कार्रवाई हुई है

आप हर उस अपराधी का समर्थन करते हैं,जो अराजकता के पर्याय थे,गुंडागर्दी जिनका पेशा बन चुका था,पिछले 5 वर्ष के अंदर प्रदेश में कानून व्यवस्था के बेहतर माहौल ने ही इस सरकार को फिर से व्यापक समर्थन दिया है,प्रत्यक्षम किम प्रमाणम,प्रत्यक्ष को किसी प्रमाण की आवश्यकता नही होती,ये जनता द्वारा चुने गए माननीय इस बात का प्रमाण हैं,आधी आबादी ने इन्हें समर्थन जिस तरह समर्थन दिया है,मैं उन्हें सैल्यूट करता हूँ

सरकार अपराध और अपराधियों के मुद्दे पर बिना किसी परवाह के कार्रवाई जारी रखेगी,कोई व्यक्ति सरेआम अपराध करे,ये सरकार स्वीकार नही कर सकती,खासकर महिला सम्बन्धी अपराध पर एंटी रोमियो स्क्वायड का गठन इस सरकार ने 5 वर्ष पहले कर दिया था,इसी के साथ प्रदेश में 218 पाक्सो कोर्ट की स्थापना भी की…

पूरे परदेश के अंदर घटित होने वाले मामलों में भारी गिरावट आई है

पहले विधानसभा या कोई चुनाव होते थे तो व्यापक हिंसा होती थी,कुछ लोगों ने इस चुनाव में और उसके बाद भी कुछ हरकत की,लेकिन उस हरकत को हमने,यूपी पुलिस ने कुछ घण्टो में ही कंट्रोल भी कर लिया

नई सरकार गठन के बाद देश के अंदर 7 राज्यों में दंगे हुए,उत्तरप्रदेश में कोई दंगा नही हुआ

हनुमान जयंती पर कोई दंगा नही हुआ…

हमको अक्सर शिकायते आती थीं,बुजुर्गों,महिलाओं, बेटियों के द्वारा,बीमार मरीजों के लिए, नवजात शिशुओं के लिए की अनावश्यक लाउडस्पीकर माइक धर्मस्थलों से बजने की,ये उतरना चाहिए, हमने अपील की “एक लाख से अधिक माइक लाउडस्पीकर उतरे हैं,या उनकी आवाज़ कम हुई”,ये पहले भी हो सकता रहा,इक्षाशक्ति होनी चाहिए,पहले नही थी,हर कार्य को वोटबैंक के नजरिये से देखने की प्रवित्ति थी

“ये इतिहास मे पहली बार हुआ कि अलविदा की नमाज सड़को पर नही हुई,ईद पर कोई अराजकता नही हुई,शांतिपूर्ण तरीके से पर्व त्योहार मनाए गए”,उत्तरप्रदेश आज देश के लिए नज़ीर बना है

2 हजार करोड़ रुपये से अधिक माफियाओं की संपत्ति जब्त हुई है,25 करोड़ नागरिकों की सुरक्षा का मुद्दा या फिर बेहतर कानून व्यवस्था ये सरकार की प्राथमिकता है,सरकार ज़ीरो टॉलरेंस के तहत कार्य कर रही है

सिद्धार्थनगर की घटना में नेता प्रतिपक्ष गए थे…
कुछ लोग प्रदेश में कानून व्यवस्था पर उंगली नही उठा सकते थे,वो लोग अब कुछ न कुछ षड्यंत्र तो करेंगे ही,क्योंकि पब्लिक ने उन्हें इस लायक छोड़ा ही नही,की वो लोग कुछ करें!!!!

सिद्धार्थनगर की घटना में पुलिस पार्टी के जाने के बाद वहां एक जितेंद्र यादव नाम के व्यक्ति ने गोली चलाई, जो निर्दोष महिला को गोली लगी,वह पकड़ा गया…ऐसे अपराधियों के खिलाफ सख्ती से निपटने की छूट प्रशासन को दी गई है…

इससे पहले भी आजमगढ़ में जहरीली शराब की घटना निर्दोष लोगों को मारने वाला भी समाजवादी पार्टी से जुड़ा था….इसके तथ्य प्रमाण मौजूद हैं…!!

Related Articles

Back to top button
E-Paper