सिडबी के सीएमडी ने किया “वेस्ट टू वेल्थ कार्यक्रम का उद्घाटन

मछली के शल्क से कृत्रिम आभूषण बनाए जाएंगे

लखनऊ, 14 फरवरी, सिडबी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री सिवसुब्रमणियन रमण ने मिशन स्वावलंबन के अंतर्गत कार्य-योजना को आगे बढ़ाते हुए, वैकल्पिक आजीविका से संबंधित मार्ग विकसित करने में महिला-उद्यमियों व गृह उद्यमियों को समर्थन प्रदान करने के उद्देश्य से “वेस्ट टू वेल्थ क्रिएशन – मछली के शल्क से कृत्रिम आभूषण और शो पीस बनाने के कार्यक्रम का उद्घाटन किया। सिडबी, इस प्रयास के अंतर्गत वैकल्पिक आजीविका से सीधे राजस्व उत्पन्न करने में 50 महिलाओं को लाभ प्रदान करेगा। कार्यक्रम के बाद, प्रत्येक महिला द्वारा अपने अर्जित ज्ञान की आवृत्ति और तत्संबंधी ज्ञान के प्रसार के लिए प्रशिक्षक की भूमिका अदा किए जाने की उम्मीद की जाती है।
सिडबी अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक ने विभिन्न चुनौतियों का जायजा लेने और राज्य में विभिन्न मंत्रालयों, सिडबी और उसके सहयोगी और सहायक संस्थाओं, एनसीजीटीसी आदि के माध्यम से भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए विभिन्न सहायता कार्यक्रमों के बारे में महत्वपूर्ण पहलुओं पर जानकारी के प्रसार-प्रचार के लिए 11-12 फरवरी को पश्चिम बंगाल का दौरा किया । राज्य की मशीनरी के साथ विचार-विमर्श की प्रक्रिया में स्टार्टअप से लेकर क्लस्टर तक उद्यम विकास के हरित पहलुओं पर चर्चा की गई। उन्होंने पश्चिम बंगाल सरकार के प्रमुख अधिकारियों, एमएसएमई संघों, एसएफबी, एमएसएमई क्षेत्र के लाभार्थियों आदि सहित एमएसएमई हितधारकों से मुलाकात की और अपनी 2 दिन की यात्रा के दौरान, उनके कार्य-स्थलों के भी दौरे किए। कार्यक्षेत्र में व्याप्त स्थितियों से प्रेरित होकर, उन्होंने स्व-सहायता समूहों और अत्पवित्त संस्थाओं के साथ-साथ संबंधित समूहों के उद्यमियों से भी मुलाकात की। उनका मत था कि ऐसे विचार-विमर्श से सम्मुख आने वाले तथ्य सिडबी को पिरामिड के तल पर अवस्थित संस्थाओं के साथ-साथ ऐसे एमएसएमई इकाइयो के लिए भी अनुकूल समाधान की प्रक्रिया को सशक्त बनाते हैं।
इस अवसर पर सिडबी की सभी महिला उद्यमियों को संबोधित करते हुए, श्री रमण ने कहा कि “सिडबी में हम कारीगरों की दीर्घकालिक सक्रियता के संबंध में सहायता प्रदान करने के लिए मिशन स्वावलंबन के अंतर्गत कार्य कर रहे हैं। मैं इस क्षेत्र में महिलाओं की अप्रतिम सक्रियता और उत्साह की सराहना करता हूं और कार्यान्वयन एजेंसी से स्थायी बाजार के साथ जुड़ाव की दिशा में भी काम करने का आग्रह करता हूं। सिडबी या पूरे भारत में अन्य मंचों द्वारा आयोजित विभिन्न स्वावलंबन मेलों में उन्हें मंच प्रदान करने के लिए सिडबी को उनके लिए सहायता प्रदान करने में प्रसन्नता होगी।
अपने दौरे के दौरान श्री रमण ने अपने कुछ अन्य कार्यक्रमों में, भारत सेवाश्रम संघ के महासचिव महाराज, भारत सेवाश्रम संघ की उपस्थिति में सिडबी के सीएसआर कार्यक्रम के अंतर्गत भारत सेवाश्रम संघ को सिडबी द्वारा प्रदान की गई एम्बुलेंस को झंडी दिखाकर रवाना किया।
एसोचैम, कोलकाता द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में श्री रमण ने स्थानीय एमएसएमई उद्यमियों के साथ बातचीत की और उनसे सरकार द्वारा प्रवर्तित पारितंत्र पर केंद्रित नीतियों का भरपूर सदुपयोग करने का आह्वान किया

Related Articles

Back to top button
E-Paper