Chanakya Niti : अगर बनना चाहते हैं सफल तो अपनाएं चाणक्य की ये बातें

Chanakya Niti

आचार्य चाणक्य (Chanakya Niti) चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे। वे ‘कौटिल्य’ नाम से भी विख्यात हैं। वे तक्षशिला विश्वविद्यालय के आचार्य भी थे। बहुत मेहनत करने के बाद व्यक्ति को सफलता मिलती है। लेकिन कुछ कामों में असफलता का सामना भी करना पड़ता है। यदि आप जीवन में सफल होना चाहते हैं तो चाणक्य नीति में बताई गई इन छह बातों को अपने जहन में उतार लें।

UK Lockdown: पूरी गर्मी घरों में कैद रहेंगे ब्रिटेन के लोग, पीएम बोरिस जॉनसन ने दिए ये संकेत

1. यह समय कैसा है

चाणक्य(Chanakya Niti) के अनुसार सफल वही है जिसे इस प्रश्न का उत्तर हमेशा मालूम रहता है कि समय कैसा चल रहा है। समझदार व्यक्ति जानता है कि वर्तमान समय कैसा चल रहा है। अभी सुख के दिन हैं या दुख के। यदि सुख के दिन हैं तो अच्छे कार्य करते रहें और यदि दुख के दिन हैं तो अच्छे कामों के साथ धैर्य बनाए रखना चाहिए।

2. मुझमें कितनी शक्ति है

सबसे जरुरी बात ये कि हमें अपनी ताकत पहचाननी चाहिए। हमें मालूम होना चाहिए कि हम क्या कर सकते हैं। हमें वही काम करना चाहिये जिसे लगे कि हां हम इसे कर सकते हैं. यदि शक्ति से अधिक काम हम हाथ में ले लेंगे तो असफल होना तय है।

3. हमारे मित्र कौन-कौन हैं

हमें मालूम होना चाहिए कि हमारे सच्चे मित्र कौन हैं और कौन कपटी है। यूं कह लें मित्रों के वेश में शत्रु कौन-कौन है। मित्रों के वेश में छिपे शत्रु का पहचाना बहुत जरूरी है। साथ ही, इस बात का भी ध्यान रखें कि सच्चे मित्र कौन हैं, क्योंकि सच्चे मित्रों की मदद लेने पर ही सफलता मिल सकती है।

4. मैं किसके अधीन हूं

हमें अपने कंपनी में काम करते हुए वहां की जरुरत को भी ध्यान में रखना चाहिए। साथ ही इस बात पर भी गौर चाहिए कि हमारा प्रबंधक, कंपनी, संस्थान या बॉस हमसे क्या चाहता है। हमने वो काम करना चाहिये जिससे संस्थान को लाभ मिलता हो।

5. यह देश कैसा है

यह देश कैसा है से तात्पर्य यह है कि हम जहां काम कर रहे हैं वो जगह कैसा है, वहां के हालात कैसे हैं। कार्यस्थल पर काम करने वाले लोग कैसे हैं। इस बात का ध्यानरखना जरुरी है।

6. हमारी आय और व्यय की सही जानकारी

व्यक्ति को अपनी आय और व्यय का पता होना चाहिए। जो लोग आय से अधिक खर्च करते हैं, वे परेशानियों में अवश्य फंसते हैं। धन संबंधी सुख पाने के लिए कभी आय से अधिक व्यय नहीं करना चाहिए।

Related Articles

Back to top button
E-Paper