उपद्रव के बाद किसानों को हाई-वे खाली करने के लिए दिया गया 24 घंटे का अल्‍टीमेटम

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस पर किसान आंदोलनकारियों ने जो उपद्रव किया उसके चलते चौतरफा रोष दिखाई दे रहा है। इसकी बानगी आज दिल्ली-जयपुर राजमार्ग पर साहबी पुल के निकट धरना दे रहे आंदोलनकारी किसानों को देखने को मिली। धरनास्थल के आस-पास के गांवों के प्रतिनिधि, जो आज तक आंदोलनकारियों को सहायता पहुंचा रहे थे, ने राजमार्ग खाली करने के लिए 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है।

अल्‍टीमेटम

वहीं शाहजहांपुर खेड़ा बॉर्डर पर हरियाणा पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिशन ने जय किसान आंदोलन के संयोजक योगेंद्र यादव का पुतला जलाकर लाल किला पर हुई घटना का विरोध दर्ज कराया है। प्रशासन की ओर से भी धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों को 3 सुझाव दिए गए हैं। हालांकि आंदोलनकारी किसानों की ओर से अभी कोई जवाब नहीं आया है।

बुधवार की सुबह गांव डूंगरवास में आस-पास के गांवों के ग्रामीणों की मसानी के सरपंच कैप्टन लाला राम की अध्यक्षता में बैठक हुई। इस बैठक में ग्रामीणों ने कहा कि एक महीने से इन आंदोलनकारियों ने दिल्ली-जयपुर हाईवे पर कब्जा जमाया हुआ है। इसके चलते हम लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। हाईवे बंद होने के चलते भारी वाहन गांवों के कच्चे-पक्के रास्तों से गुजर रहे हैं। इसके चलते हमें भारी परेशानी हो रही है और  गांवों के लिंक रोड व पानी की पाइप लाइनें टूट चुकी है। कई जगहों पर बड़े वाहनों की टक्कर से बिजली के खंभे और तार टूट गए हैं। इसके बावजूद हम सब सहते रहे और किसान आंदोलनकारियों को समर्थन देते रहे। लेकिन मंगलवार को किसान आंदोलन की आड़ में लाल किला पर तिरंगा अपमान हुआ है, इसे किसी भी सूरत में बर्दास्त नहीं किया जाएगा।

बैठक के बाद ग्रामीणों द्वारा गठित एक कमेटी ने सरपंच लालाराम की अगुवाई में आंदोलनकारी किसानों के नेताओं से भी मुलाकात की तथा 24 घंटे में हाईवे खाली करने का अल्टीमेटम दिया। ग्राीमीणों के धरना स्थल  पर पहुंचने पर एक बारगी तनाव की स्थिति बन गई थी लेकिन बातचीत के दौरान भारी पुलिस बल तैनात रहा। ग्रामीणों ने कहा कि यदि 24 घंटे में हाईवे खाली नहीं किया गया तो फिर से पंचायत कर आगामी रणनीति तैयार की जाएगी।

वहीं हरियाणा पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन की मीटिंग भी शाहजहांपुर-खेड़ा बार्डर पर हुई। एसोसिएशन ने जय किसान आंदोलन के संयोजक योगेंद्र यादव से भी मुलाकात की तथा हाईवे खोलने का आग्रह किया। योगेन्द्र यादव की तरफ से उचित जवाब नहीं मिलने पर पेट्रोलियम एसोसिएशन व ट्रांसपोर्टर्स एसोसिएशन ने योगेंद्र यादव का पुतला जलाया तथा शाहजहांपुर-खेड़ा बार्डर पर धरने पर बैठ गए। पेट्रोलियम एसोसिएशन ने हाईवे खोलने के लिए 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper