हुनर हाट में 29 लाख लोगों ने की शिरकत, ‘वोकल फॉर लोकल’ अभियान का बनें अभिमान

लखनऊ। राजधानी के अवध शिल्पग्राम में केन्द्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा 22 जनवरी से 07 फरवरी तक आयोजित किये गए 24वें ‘हुनर हाट’ में जहां एक ओर 29 लाख से ज्यादा लोगों ने आकर हुनर के पुश्तैनी दस्तकारों, शिल्पकारों की हौसला अफजाई की। वहीं करोड़ों रुपये की स्वदेशी उत्पादों की खरीददारी कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘वोकल फॉर लोकल’ अभियान का अभिमान बनें।

हुनर हाट

केन्द्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने रविवार को ‘हुनर हाट’ के समापन के अवसर पर अवध शिल्पग्राम में पत्रकारों से बात करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि एक ओर ‘हुनर हाट’ में जहां देश के हर क्षेत्र के स्वदेशी हस्तनिर्मित दुर्लभ उत्पाद उपलब्ध थे। वहीं दूसरी ओर यहां आने वाले लोगों ने देश के विभिन्न क्षेत्रों के पारम्परिक लजीज पकवानों का भी लुत्फ उठाया।

ये भी पढ़ें : चमोली में ग्लेशियर टूटने से बड़ी त्रासदी, उत्‍तर प्रदेश में कानपुर से लेकर वाराणसी तक अलर्ट

उन्होंने कहा कि हुनर हाट में आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, झारखण्ड, कर्नाटक, केरल, लद्दाख, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नागालैंड, ओड़िशा, पुडुचेरी, पंजाब, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल सहित 31 राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों से लगभग 500 हुनर के उस्ताद शामिल हुए।

ये दस्तकार, शिल्पकार अपने साथ अजरख, ऍप्लिक, आर्ट मेटल वेयर, बाघ प्रिंट, बाटिक, बनारसी साड़ी, बंधेज, बस्तर की जड़ी-बूटियां, ब्लैक पॉटरी, ब्लॉक प्रिंट, बेंत-बांस के उत्पाद, चिकनकारी, कॉपर बेल, ड्राई फ्लावर्स, खादी के उत्पाद, कोटा सिल्क, लाख की चूड़ियां, लेदर, पश्मीना शाल, रामपुरी वायलिन, लकड़ी-आयरन के खिलौने, कांथा एम्ब्रोइडरी, ब्रास-पीतल के उत्पाद, क्रिस्टल ग्लास, चन्दन की कलाकृतियां, लकड़ी-बेंत के फर्नीचर आदि के स्वदेशी हस्तनिर्मित शानदार उत्पाद प्रदर्शन एवं बिक्री के लिए ले कर आये।

मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि लखनऊ का हुनर हाट ई प्लेटफार्म http://hunarhaat.org पर भी देश-विदेश के लोगों के लिए उपलब्ध रहा, जहां लोगों ने सीधे दस्तकारों, शिल्पकारों, कारीगरों के स्वदेशी सामानों को सराहा और खरीदा। इसके अलावा अब हुनर हाट जेम पोर्टल (गवर्नमेंट इ मार्केटप्लेस) पर भी उपलब्ध है।

उन्होंने कहा कि पिछले छह वर्षों में हुनर हाट के माध्यम से पांच लाख से ज्यादा दस्तकारों, शिल्पकारों, कारीगरों और उनसे जुड़े लोगों को रोजगार और रोजगार के अवसर उपलब्ध हुए हैं।

उन्होंने कहा कि 25वें Hunar Haat का आयोजन कर्नाटक के मैसूर में महाराजा कॉलेज ग्राउंड, चाम्राज्यपुरम में 06 से 14 फरवरी 2021 तक किया जा रहा है। आने वाले दिनों में हुनर हाट का आयोजन नई दिल्ली (20 फरवरी से 1 मार्च 2021), कोटा (28 फरवरी से 7 मार्च 2021), जयपुर, चंडीगढ़, इंदौर, मुम्बई, हैदराबाद, रांची, सूरत-अहमदाबाद, कोच्चि, पुडुचेरी आदि स्थानों पर होगा।

Related Articles

Back to top button
E-Paper