यूपी में 3.25 लाख बेघरों को आश्रय गृहों में दी गई शरण, इस वेबसाइट पर मिलेगी जानकारी

लखनऊ प्रदेश में शहरी बेघरों को आश्रय दिये जाने के लिए जनपदीय डूडा द्वारा मिशन कर्मियों, आश्रय संचालक संस्थाओं, नगरीय निकायों के प्रतिनिधियों एवं स्थानीय पुलिस के सहयोग से रात्रि में विशेष अभियान का संचालन कर शहरी बेघरों को आश्रय गृहों में आवासित किया जा रहा है।

आश्रय गृहों

शरद पूर्णिमा से अब तक 3.25 लाख से ज्यादा बेघर लोगों को आश्रय उपलब्ध कराया गया, जिसमें लगभग 40,000 व्यक्तियों को डूडा एवं नगर निगम की टीमों ने मिलकर रात्रि में अभियान के माध्यम से आश्रय गृहों में शरण दी। इस अभियान के प्रचार प्रसार से आश्रय गृहों में 5000 से अधिक व्यक्तियों द्वारा प्रत्येक दिवस आश्रय लिया जा रहा है।

राज्य स्तरीय अनुश्रवण समिति, उप्र के अध्यक्ष के अनुसार वर्तमान में दीनदयाल अन्त्योदय योजना-राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन (डीएवाई-एनयूएलएम) के अन्तर्गत 104 आश्रय गृह क्षमता 6,596 तथा नगरीय निकायों के 802 स्थाई आश्रय गृह एवं अस्थाई रैन बसेरा क्षमता 14,482 का संचालन कोविड-19 हेतु शासन द्वारा जारी निर्देशों का अनुपालन कराते हुए किया जा रहा है।

शहरी बेघरों को सभी मूलभूत सेवाओं एवं सुविधाओं से युक्त सभी मौसम के लिए स्थायी आश्रय गृह उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है। डीएवाई-एनयूएलएम के घटक शहरी बेघरों के लिए आश्रय योजना (एसयूएच) के अन्तर्गत आश्रय गृहों का निर्माण एवं संचालन का कार्य नगर विकास विभाग द्वारा प्राथमिकता से कराया जा रहा है। शहरी बेघर, गूगल के माध्यम से upshelterhome.org वेबसाइट पर जाकर शहर विशेष में उपलब्ध स्थाई आश्रय गृहों की सूचना प्राप्त कर सकते हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper