Bahraich News In One Click | सिर्फ एक क्लिक में पढ़ें बहराइच जिले की हर महत्वपूर्ण खबर

Bahraich News

पास्को एक्ट में एक गिरफ्तार | Bahraich News

मिहीपुरवा, बहराइच। पुलिस ने छेड़छाड़ के एक आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। उसके खिलाफ पास्को एक्ट के अंर्तगत भी कार्रवाई की गई है।

मोतीपुर पुलिस में थाना क्षेत्र के एक व्यक्ति ने शिकायत दर्ज करायी थी कि एक युवक उसकी युवती के साथ छेड़छाड़ कर रहा है। पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए छानबीन शुरु की थी। थाने पर उस युवक के खिलाफ पुलिस ने छेड़छाड़ का मामला भी दर्ज किया था। पुलिस की छानबीन में मामला सही पाया गया। जिस पर पुलिस ने आरोपी मनोज यादव पुत्र किशुन यादव निवासी जगतापुर गुलरिहा को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उसके खिलाफ पास्को एक्ट के अंर्तगत कार्रवाई कर जेल भेज दिया।

सरकारी भूमि पर कब्जा कर हो रही खेती | Bahraich News

महसी, बहराइच। तहसील क्षेत्र में स्थित सरकारी जमीनों पर दबंग लगातार कब्जा कर खेती कर रहे हैं। यही नही दबंग आसपास के गांवों के किसानों की कृषि योग्य भूमि पर कब्जा कर ले रहे हैं। जिससे किसानों को अपनी ही भूमि की उपज का लाभ नही मिल पा रहा हैं।

तहसील के पंडित पुरवा, मुरौवा गांवों में ग्रामपंचायत और खलिहान के साथ ही अन्य सरकारी भूमि है। इन जमीनों पर गांव तथा आसपास के दबंग लोगों के कब्जे हैं। इन कृषि योग्य जमीनों के आसपास के किसानों की भूमि भी दबंग अक्सर ट्रैक्टर से जुताई कराकर अपने कब्जे वाले खेतों में मिला लेते हैं। इससे गांवों के किसान भी परेशान हैं। किसानों ने बताया कि परगना फखरपुर के राजस्व ग्राम आशापुर के दक्षिण, राजस्व ग्राम मुन्सारी के पुरब व राजस्व ग्राम बरुआ बेहड़ के उत्तर तथा पूर्वात्तर में राजस्व ग्राम मंगरवल से मिला राजस्व ग्राम है। जिसमें वर्ष 2017 में ग्राम पंडितपुरवा की सरकारी भूमि पुरानी परती 3.006 हेक्टेयर, वंजर भूमि 9.547हेक्टेयर, पानी गड्ढा के खाते में दर्ज 2.614 हेक्टेयर कुल क्षेत्रफल 15.167 हेक्टेयर सरकारी भूमि है। तत्कालीन एसडीएम व सीओ महसी द्वारा थाना बौण्डी व हरदी, थाना खैरीघाट व थाना रामगांव की पुलिस फोर्स के साथ टीम गठित करके पैमाइश कराकर भूमाफियाओं के कब्जे से मुक्त कराई थी। जिस पर 2 वर्षा से कुछ दबंगों ने फिर कब्जा कर खेती करना शुरु कर दिया है। गांव के रामकुमार, पे्रम सागर, समेत कई किसानों ने एसडीएम को पत्र देकर भूमि की पैमाइस कराकर दबंगों के कब्जे से मुक्त कराने की मांग की है।

कम लागत मे अधिक उत्पादन सरकार की प्राथमिक्ताः त्रिपाठी | Bahraich News

पयागपुर, बहराइच। किसान की आय दोगुनी करने व किसानों को जागरूक करने के लिए किसान कल्याण मिशन अंतर्गत बुधवार को ब्लाक परिसर में किसान मेला, गोष्ठी एवं प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक प्रतिनिधि निशंक त्रिपाठी रहे।

निशंक त्रिपाठी के कहा की किसान मेले का मुख्य उद्देश्य किसान की आय दुगुनी करना है। जब किसान रोजगार के रूप मे कृषि करेगा तो लोगो का पलायन रोका जा सकता है। कम लागत में अधिक्तम उत्पादन सरकर की प्राथमिकता है। उन्होंने किसान मेले का निरीक्षण किया और मेले में लगाए गए उत्पादों की जानकारी ली। किसानो को प्रोत्साहित करने के लिए निशंक त्रिपाठी द्वारा क्षेत्र के उन्नतशील किसान को सम्मानित किया गया। कृषि संयत्रो की खरीद पर सब्सिडी पाए किसानो को प्रमाण पत्र वितरित किए गए।

Lucknow News In One Click | सिर्फ एक क्लिक में पढि़ए राजधानी लखनऊ की हर महत्वपूर्ण खबर

जिला कृषि अधिकारी सतीश पांडेय ने बताया कि आज किसान परम्परा गत खेती के साथ रेशम उत्पादन, मछली पालन व मुर्गी पालन भी कर रहा है। जिससे उसकी आर्थिक स्थिति में उल्लेखनीय सुधार हुआ है। कृषि वैज्ञानिक रोहित पांडेय ने बताया कि किसान अगर रसायनिक खाद व उर्वरक का प्रयोग कम करे तो उनकी लागत कम हो जाती है। और उनकी आय बढ़ जाएगी। उपजिलाधिकारी केपी भारती ने किसानो को सरकार द्वारा चलाई जा रहीं योजनाओं के बारे मे विस्तार से बताया।

गोष्ठी में किसान बब्बन सिंह ने जन प्रतिनिधियो व अधिकारियों का ध्यान फसल सुरक्षा व छुट्टा जानवर की समस्या की ओर अवगत कराया। जिला सहायक निबन्धक नवीन चंद्र शुक्ल ने कृषि की नवीन तकनीक के बारे में लोगो को अवगत करवाया। संचालन विनय मिश्र ने किया। कार्यक्रम में खंड विकास अधिकारी श्वेता मिश्रा, पूर्व प्रमुख राम मनोहर सिंह पप्पू, हरिओम रस्तोगी, पंकज तिवारी, बिपिन कुमार, अनुपम शुक्ल, धीरेंद्र गुप्ता व प्रदीप तिवारी सहित सैकड़ों किसान उपस्थित रहें।

बौंडी क्षेत्र में फिर दिखा तेंदुआ, सहमे ग्रामीण | Bahraich News

बहराइच। कई दिनों तक लोगों की नजर से ओझल रहने के बाद मंगलवार की रात एक बार फिर बौंडी गांव में ग्रामीणों को तेंदुआ दिखा। जिससे ग्रामीण एक बार फिर दहशतजदा हो गए हैं। ग्रामीणों के हांका लगाने के बाद तेंदुआ खेतों की ओर भाग गया।

विगत 10 दिन पूर्व बौंडी थाना क्षेत्र के बौंडी गांव में तेंदुए ने दस्तक देकर तीन ग्रामीणों पर हमला कर दिया था। वन विभाग के आलाधिकारियों ने गांव का निरीक्षण कर तेंदुए को पकड़ने के लिए  वनकर्मियों को तैनात कर रखा था। लगातार नौ दिनों तक वन विभाग के कर्मचारी घाघरा की कछार व गांव में स्थित गन्ना, सरसों आदि खेतों की खाक छानते रहे। बावजूद इसके तेंदुआ किसी के नजर में नहीं आया। मंगलवार की रात करीबन 11 बजे बौंडी निवासी इरफान घर के बाहर कुत्तों के भौंकने व जानवरों के चिल्लाने की आवाज सुनकर बाहर निकले तो उन्होंने तेंदुए को देखा। शोर के बाद ग्रामीण इकट्ठा हो हुए और हांका लगाया तो तेंदुआ गांव के बाहर खेतों में भाग गया। गांव में तैनात वनकर्मियों ने मौके पर तेंदुए की तलाश शुरू की। सूचना पर पहुंचे क्षेत्रीय वनाधिकारी आरपी चैधरी, वन दरोगा जहीरुद्दीन खान ने वनकर्मियों को ग्रामीणों के बताए क्षेत्र में काबिंग करने के निर्देश दिए तथा ग्रामीणों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। बीट प्रभारी जुबेर अहमद ने बताया कि हम लोग अपने सहकर्मियों के साथ में लगातार गश्त कर रहे हैं।

कोरोना के चलते इग्‍नू का बड़ा फैसला | Bahraich News

बहराइच कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय में स्नातक व परास्नातक पाठ्यक्रम की सुविधा प्रदान की है इसके साथ ही ही मुक्त विश्वविद्यालय की ओर से और भी विभिन्न पाठ्यक्रम जिसमें पत्रकारिता समेत कई व्यावसायिक पाठ्यक्रम भी शामिल है को वरीयता दे रही है मुक्त विश्वविद्यालय के बहराइच कोऑर्डिनेटर ने विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश के नियम व शर्तों बताया है।

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय के किसान पीजी कॉलेज अध्ययन केंद्र के कोऑर्डिनेटर दिनेश कुमार शुक्ला ने बताया कि इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय नई दिल्ली से स्नातक परास्नातक बीए एकल विषय अन्य कोर्स प्रमाण पत्र एवं प्रमाण पत्र समेत पत्रकारिता पर्यावरण जल संरक्षण तथा पर्यटन इत्यादि से संबंधित पाठ्यक्रमों को भी संचालित कर रहा है। उन्होंने बताया कि छात्र-छात्राओं की सुविधा के लिए पुस्तकों को भी उपलब्ध कराया जा रहा है तथा अन्य लिखित सामग्रियों की भी व्यवस्था की जा रही है।

उन्होंने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण के दौरान संस्थागत कक्षाओं के बाधित होने से मुक्त विश्वविद्यालय में संचालित होने वाली कक्षाओं का उपयोग बढ़ रहा है, ऐसे में प्रवेश के लिए आवेदकों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। उन्होंने संभावना व्यक्त की है कि आने वाले समय में विश्वविद्यालय व्यक्तिगत परीक्षाओं को समाप्त करने पर विचार कर रहा है। कई विश्वविद्यालयों ने व्यक्तिगत परीक्षा समाप्त करने का फैसला लिया है। ऐसे में मुक्त विश्वविद्यालय की उपयोगिता और भी बढ़ जाएगी।

Related Articles

Back to top button
E-Paper