‘आप’ अपने घोटालों पर पर्दा डालने के लिए यूपी सरकार के कार्यों पर लगा रही है प्रश्न चिन्ह: सुरेश खन्ना

उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी संजय सिंह पर रविवार को निशाना साधा। यूपी सरकार पर मेडिकल उपकरण की खरीद फरोक्त से जुड़े सभी आरोपों को उन्होंने बेबुनियाद बताया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में ऑक्सीजन घोटाला करने वाली केजरीवाल सरकार अपने घोटालों पर पर्दा डालने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार के कार्यों पर प्रश्नचिन्ह लगा रही है।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि आम आदमी पार्टी के सभी आरोप झूठे हैं, इन खोखली बातों से वो महामारी के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार के सराहनीय कार्यों की झूठला नहीं सकती है। उन्होंने दावा किया कि देश के अन्यप राज्यों की अपेक्षा उत्तर प्रदेश ने बेहतर रणनीति के अनुसार कार्य किया जिसके कारण आज उत्तर प्रदेश की स्थिति अन्य‍ प्रदेशों से काफी बेहतर है।

चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि आम आदमी पार्टी को यह पता होना चाहिए कि चिकित्सा क्षेत्र में बेहतर इलाज के लिए नई-नई तकनीकों का प्रयोग किया जाता है, जिसके लिए अस्पततालों में बेहतर चिकित्सकीय सुविधाएं देने के लिए नई तकनीक वाले उपकरणों की जरूरत होती है। उन्होंने आगे कहा कि वेंटिलेटर के बेसिक मॉडल के साथ ही बाजार में उस कंपनी के ही अलग-अलग फीचर के वेंटिलेटर मौजूद हैं, जिनके दाम बेसिक मॉडल से ज्यादा होते हैं। मंत्री के मुताबिक, वेंटिलेटर (ड्रेजर) का बेसिक मॉडल जो नॉन अपग्रेडेबल है, उसके दाम 10.5 लाख प्लस जीएसटी है, जबकि इसके अपग्रेडेबल मॉडल का दाम ज्यादा है।

इसी तरह से प्रदेशवासियों को बेहतर चिकित्सकीय सुविधाएं देने के लिए एमएमवी-मॉनिटरिंग मिनट वॉल्यूम, ऑटो फ्लो मॉड्यूल जैसे आधुनिक तकनीक से लैस चिकित्सकीय उपकरणों का ऑर्डर दिया गया है। उन्होंने कहा कि एमपी ने 10.5 प्लैस जीएसटी वाले क्लासिक मॉडल का ऑर्डर दिया, वहीं लखनऊ के केजीएमयू ने बिना किसी मॉड्यूल के चुनिंदा मॉडल का आर्डर दिया, जिसकी किमत 12.5 लाख प्लस जीएसटी है। उन्होंकने कहा कि उत्तर प्रदेश में सभी मशीनें पारदर्शिता निविदा प्रक्रिया के जरिए से उचित दामों पर खरीदी गई हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper