कानपुर, उन्नाव के बाद अब लखनऊ में भी मिले जीका वायरस के मरीज

जिस तरह से कोरोना ने पुरे देश में कहर मचा रखा है। उसी तरह अब जीका वायरसभी अपने पैर पसार रहा है। अब तक उत्तर प्रदेश के तीन शहर इसकी चपेट में आ चुके हैं।अभ तक कानपूर और उन्नाव में जीका वायरस के केस मिले थें, लेकिन अब लखनऊ में भी इसके केस मिलने शुरू हो गए हैं। जिस शहर में जीका वायरस के केस मिल रहे हैं वहां के प्रशासन को अलर्ट कर दिया गया है।

जीका वायरस

जीका वायरस मच्छर से फैलने वाली एक बीमारी है और इसके लिए बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता है। यह एक खतरनाक बीमारी है लेकिन सही समय पे इलाज से इससे राहत मिल सकता है। जीका वायरस के लक्षण मिलने पर इसे अनदेखा करना बेहद ही खतरनाक हो सकता है। इसके लिए ज़रूरी है डॉक्टर की सलाह।

मेडिकल कॉलेजों में इसी महीने होंगी तीन हजार से ज्यादा भर्तियां

डॉक्टर्स के मुताबकि लाल चकत्ते, मांसपेशियों में दर्द, सर में दर्द, उल्टी आदि की समस्या जीका वायरस के लक्षण हैं। जिसका के लक्षण फ़्लू से मिलते जुलते हैं। कई बार इसके लक्षण हलके होते हैं जिसकी वजह से सामने नहीं आते हैं। गर्भवती महिलाओं को बेहद सावधानी बरतने की ज़रूरत है अगर गर्भवती महिलाओं में ऐसी समस्या होती है तो डॉक्टर से तुरंत सम्पर्क करें।

जीका वायरस मच्छर के कारण फैलता है। ये वायरस एडीज एजिप्टी प्रजाति के मच्छर के काटने से होता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार एडीज मच्छर ज्‍यादातर दिन में काटते हैं। ये डेंगू, चिकनगुनिया वालें मच्छर ही हैं। अधिकतर लोगों के बीच जीका वायरस का संक्रमण कोई गंभीर समस्या नहीं है, लेकिन ये गर्भवती महिला और भ्रूण के लिए बेहद ही खतरनाक है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper