ग्रामीणों को अपनी जमीन पर रास्ता देगी एयरपोर्ट अथॉरिटी, मवैइया वासियों को मिलेगी राहत

कानपुर। एयरपोर्ट की नई टर्मिनल बिल्डिग के लिए मवैइया में 50 एकड़ जमीन का अधिग्रहण किया गया था। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने इस जमीन पर बाउंड्री वाल बनाकर काम शुरू किया। गांव से सड़क मार्ग तक आने जाने का रास्ता न होने पर एयरपोर्ट अथॉरिटी ने ग्रामीणों को परिसर के अंदर से ही आने जाने का मार्ग देना पड़ा।

मवइया गांव के ग्रामीणों को आने जाने के लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी ने अपनी जमीन का एक बड़ा हिस्सा रास्ते के लिए दिया है। प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद केडीए ने इस पर काम शुरू कर दिया है।

रास्ता बनाने की समय सीमा 10 दिसंबर तय की गई है। अभी ग्रामीण निमार्णाधीन टर्मिँनल बिल्डिग के रास्ते से होकर जाते हैं, जिससे बिल्डिग का काम प्रभावित होता है। बाउंड्री वॉल का गेट खुलने होने के चलते अक्सर आवारा जानवर भी यहां आतेजाते हैं।

उल्लेखनीय है कि मवैइया में करीब 300 परिवार रहते हैं। जमीन अधिग्रहण से पूर्व ग्रामीणों के लिए खेत के रास्ते कच्चा मार्ग सड़क तक आने जाने के लिए था। जमीन अधिग्रहण के बाद भी ग्रामीण उसी कच्चे रास्ते से आते जाते हैं। नया रास्ता ग्रामीणों को राहत देगा और टर्मिनल बिल्डिग का काम भीतेज गति से हो सकेगा।

सिविल एविएशन के विशेष सचिव सुरेंद्र सिंह ने छह माह पूर्व डायवर्जन रोड बनाने के आदेश पूर्व जिलाधिकारी डॉ. विजय विश्वास पंत को दिए थे। इसके बाद यह प्रोजेक्ट धीमी गति से आगे बढ़ता रहा। बीते माह कमिश्नर की बैठक में यह मुद्दा फिर उठा। एयरपोर्ट अधिकारियों ने रास्ता न होने से टर्मिनल बिल्डिग के काम में आ रही दिक्कतों को उद्धृत किया था।

एयरपो के निदेशक बीके झा ने बताया कि रास्ता बनने से ग्रामीणों को फायदा तो होगा ही, वहीं बिल्डिग निर्माण में लगे वाहनों का आवागमन आसानी से हो सकेगा। अभी हमारी जमीन से ग्रामीण जाते हैं। यह गेट बाद में बंद कर दिया जाएगा।

Related Articles

Back to top button
E-Paper