सीमा लांघ रही योगी सरकार, प्रति व्यक्ति आय दोगुनी होने का दावा झूठा- अखिलेश यादव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रामपुर से शुरू हुई साइकिल यात्रा का शनिवार को राजधानी में पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर स्वागत किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि साइकिल यात्रा के दौरान कार्यकर्ताओं का जोश बताता है कि 2022 में क्या होने वाला है। उन्होंने एक बार फिर आजम खान पर फर्जी मुकदमें दर्ज होने का आरोप लगाते हुए सरकार पर निशाना साधा और कहा कि ये मुकदमें सियासत से प्रेरित होकर लिखे गये हैं। सरकार अब सीमाएं लांघ रही है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर प्रति व्यक्ति आय दोगुनी होने का झूठा दावा करने का आरोप लगाया।

अखिलेश यादव ने इस दौरान प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि आजम खान के साथ व उनके परिवार को भाजपा जानबूझ कर परेशान कर रही है। भाजपा की साजिश है कि आजम खान का जौहर विश्वविद्यालय बंद हो जाए। उन पर फर्जी केस लिखे गए, राजनीति से प्रेरित केस लिखा गए हैं। तानाशाही तरीके से विपक्ष की आवाज दबाई जा रही है। सपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा ने सपा कार्यकर्ताओं पर 10 हजार मुकदमे दर्ज करवाए गए हैं। हम इन मुकदमों से डरने वाले नहीं हैं और 2022 में जनता इसका जवाब देगी।

उन्होंने कहा कि कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रति व्यक्ति आय दोगुनी होने का झूठा दावा कर रहे हैं। लॉकडाउन में नौकरी चली गई, रोजगार कम हो गए, सरकारी कर्मचारियों के वेतन में कटौती हो रही है। ऐसे में आय दोगुनी कैसे हो गई। भाजपा ने चार वर्ष में उत्तर प्रदेश को बर्बाद करने का काम किया है। मुख्यमंत्री भाजपा के संकल्पपत्र को गीता बता रहे हैं तो वह बताएं कि इसमें किए गए कितने वादे अब तक जमीन पर उतर गए हैं।

अखिलेश यादव ने कहा कि सपा सरकार ने जितना काम पांच साल में किया उतना काम कोई सरकार नहीं कर पाई है। मुख्यमंत्री जी जहां बैठते हैं वो लोकभवन हमने बनवाया है। हम मेट्रो लेकर आए। वो बताएं कि आखिर उन्होंने किन शहरों में अपनी सरकार में मेट्रो सेवा शुरू की। जहां पर भी मेट्रो का काम शुरू हुआ, वो सपा सरकार में किया गया था। अब तो प्रदेश सरकार पुराने शिलापट्ट तोड़कर नए लगा रही है।

सपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि सर्वे में जब पता चलता है कि लोग नाराज हैं तो सरकार उसे डिलीट करवा देती है। उन्होंने कहा कि भाजपा के पास प्रदेश को आगे ले जाने का कोई विजन नहीं। वहीं, सपा पूरे दम से पंचायत चुनाव लड़ेगी और इसके बाद विधानसभा चुनाव तक लगातार कार्यक्रम किए जाएंगे।

अखिलेश यादव ने किसानों के मुद्दे पर कहा कि सरकार उनके आन्दोलन को दबाने का प्रयास कर रही है, लेकिन किसानों को अब सरकार की असलियत पता चल गई है। उन्हें पता ही नहीं है कि क्या करना है। केन्द्र व राज्य में दोनों ही जगह किसान व युवा सब परेशान हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper