प्रियंका गांधी के बाद अखिलेश यादव में हिरासत में

लखनऊ। लखीमपुर खीरी में हिंसा और चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद शुरू हुआ सियासी बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। तमाम विपक्षी दल के नेता लखीमपुर पहुंचने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन प्रशासन की ओर से उन्हें जाने की इजाजत नहीं दी जा रही है।  समाजवादी पार्टी के मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के घर के बाहर सुबह से ही प्रशासन ने बेहद कड़ी सुरक्षा व्यवस्था लगाई थी। इसके बाद भी तमाम सपा कार्यकर्ता अखिलेश यादव के घर के बाहर पहुंच गए। इसके बाद अखिलेश यादव अपने घर के बाहर ही धरने पर बैठ गए और राज्य सरकार पर जमकर हमला बोला।

विपक्षी नेता लखीमपुर जाकर किसानों से, मृतकों के परिवार से मिलना चाहते हैं लेकिन प्रशासन सख्त है। रोके जाने पर अखिलेश यादव लखनऊ में सड़क पर ही धरने पर बैठ गए थे, इसके बाद उनको हिरासत में लिया गया। इससे पहले प्रियंका गांधी को सीतापुर में हिरासत में लिया गया था।

अखिलेश यादव ने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का इस्तीफा मांगा। उन्होंने कहा, ”किसानों पर अंग्रेजों से भी ज्यादा जुल्म हुआ है। सरकार किसी की भी जान ले सकती है। भाजपा की सरकार असफल हुई है, गृह राज्य मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए।”

अखिलेश यादव ने कहा, ”जिन किसानों की जान गई उनके परिवार को सरकारी नौकरी और 2 करोड़ की मदद हो। किसानों की मदद सरकार को करना चाहिए। उप मुख्यमंत्री की भी दौरा था उनकी भी जिम्मेदारी है उनको भी इस्तीफा देना चाहिए।”

अखिलेश ने कहा, ”सरकार सच्चाई दबा रही है, आज से आंदोलन नहीं चल रहा है। किसानों की मांग है कानून रद्द करो।” अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि पुलिस के लोग गाड़ी जला रहे हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper