मोटापा कम करने के साथ-साथ चेहरे की रंगत भी सुधारेगी फोर्टिफाइड मसूर की दाल

मीरजापुर। दलहन अनुसंधान कानपुर एवं बीएचयू साउथ कैंपस के कृषि वैज्ञानिकों ने फोर्टिफाइड मसूर की खोज की है। फोर्टिफाइड मसूर की यह दाल मोटापे को कम कर चेहरे की रंगत को भी सुधारेगी। मसूर की दाल में इम्यूनिटी बढ़ाने वाला तत्व पेप्टाइड्स पाए जाते हैं। यह शरीर में एंटीमाइक्रोबियल यानी जीवाणु रोधी गतिविधि को बढ़ाते हैं। इससे शरीर में किसी भी तरह के संक्रमण (इन्फेक्शन) का जोखिम कम हो जाता है। मसूर दाल में मौजूद पेप्टाइड्स इम्यूनिटी को बढ़ाने में सहायक हैं।

मसूर दाल में फाइबर मौजूद है। कृषि वैज्ञानिकों के शोध के अनुसार फाइबर बढ़ते कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। इसमें हाइपोकोलेस्टेरोलेमिक प्रभाव को काम करता है। साथ ही फोर्टिफाइड मसूर में एंटी कोलेस्टेरोलेमिक भी होता है। यह होमोसिस्टीन नामक एमीनो एसिड को नियंत्रित करता है। खून में बढ़ी हुई होमोसिस्टीन की मात्रा हृदय रोग का कारण बनती है।

आप भी रहना चाहतीं है फिट तो ज़रूर जानिए ‘नेशनल क्रश’ की फिटनेस और डाइट प्लान

ब्लड शुगर की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए भी फोर्टिफाइड मसूर वरदान साबित होगी। मसूर की दाल में डायबिटिक पेशेंट और स्वस्थ मनुष्यों में ब्लड शुगर, लिपिड व लिपोप्रोटीन मेटाबॉलिज्म में सुधार करने की क्षमता होती है। इसमें पाई जाने वाली उच्च फ्लेवोनोइड और फाइबर सामग्री ब्लड शुगर की मात्रा को बढ़ने से रोक सकती है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper