बंगाल में गरजे अमित शाह, बोले- ‘CAA पूरे देश में लागू होगा’, ये देश का कानून

अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि CAA का सरकार से कोई लेना देना नहीं है। ये देश का कानून है और पूरे देश में लागू होगा। उनका कहना है कि कोविड-19 टीकाकरण खत्म होने के बाद सीएए के तहत शरणार्थियों को नागरिकता देने की शुरुआत करेंगे। उन्होंने कहा कि विपक्ष सीएए पर अल्पसंख्यकों को गुमराह कर रहा है। भारतीय अल्पसंख्यकों की नागरिकता पर इससे असर नहीं पड़ेगा।

अमित शाह ने कहा कि देश नेताजी सुभाष चंद्र बोस बहुत स्नेह के साथ याद करता है और उनकी बहादुरी और साहस युगों तक याद किया जायेगा। शाह ने यहां नेशनल लाइब्रेरी कोलकाता में ‘शौर्यंजलि कार्यक्रम में शहीद स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि देश के युवाओं को नेताजी के बारे में पढ़ना जरूर चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के युवाओं को नेताजी के जीवन और उनके संघर्ष की जानकारी अवश्य करनी चाहिए।

उन्होंने कांग्रेस का नाम लिये बगैर कहा कि कई मौकों पर लोगों ने नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के योगदान को आलोकित करने के बजाय उन्हें भुला देने की कोशिश की लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक समिति गठित की है जो यह सुनिश्चित करेगी आने वाली पीढ़ियां अपने इस महान नेता को सम्मान देते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करती रहे।     

विधानसभा चुनाव से पहले पश्चिम बंगाल भेजी जाएंगी सीएपीएफ की 12 कंपनियां

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी अपने भाषणों में कहती रही हैं कि प्रत्येक विद्यार्थी को नेताजी सुभाष चन्द्र बोस द्वारा लिखित ‘तरुनेर स्वप्नो को पढ़ना चाहिए।” उन्होंने कहा, “देश के युवाओं को नेताजी के बारे में बहुत कुछ पढ़ना और जानना चाहिए। सभी भारतीयों को प्रेरणा के लिए नेताजी की ओर देखना चाहिए।”

उन्होंने कहा, “देश के युवाओं से कहना चाहता हूं कि आपको सुभाष चंद्र बोस के जीवन के बारे में पढ़ना चाहिए। उनकी जीवन यात्रा आपको बहुत कुछ सिखाएगी।” उन्होंने कहा कि बोस की लोकप्रियता दो बार कांग्रेस के अध्यक्ष बनने के बाद स्पष्ट हुई। एक बार तो उन्होंने गांधी जी के उम्मीदवार को भी हरा दिया था।

Related Articles

Back to top button
E-Paper