बाबरी विध्वंस केस : फैसला कुछ देर में, इस वजह से अदालत में मौजूद नहीं रहेंगे ये आरोपी

लखनऊ। बाबरी मस्जिद विध्वंस केस बुधवार को अहम फैसला कुछ ही घंटों में आने वाला है। इस केस में बीजेपी के वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत 32 आरोपियों पर लखनऊ की सीबीआई अदालत फैसला सुनाएगी। अदालत ने सभी आरोपियों को कोर्ट में मौजूद रहने को कहा था, लेकिन आडवाणी, जोशी तथा उमा भारती समेत पांच आरोपी अदालत में उपस्थित नहीं हो सकेंगे। कहा जा रहा है कि इनकी तरफ से उनके वकील कोर्ट में प्रार्थनापत्र दे सकते हैं।

 

उल्लेखनीय है कि लालकृष्ण आडवाणी की उम्र 92 साल है और वह ठीक से चलने-फिरने में असमर्थ हैं। ठीक यही स्थिति मुरली मनोहर जोशी की भी है। दोनों नेताओं का स्वास्थ्य भी ठीक नहीं है। ऐसे में उनके वकील अदालत में प्रार्थनापत्र दे सकते हैं।

आरोपी उमा भारती कोरोना वायरस पॉजिटिव हैं और उन्हें ऋषिकेश के एम्स में भर्ती कराया गया है। अस्पताल में होने के चलते वह कोर्ट में नहीं आ सकती हैं। उनकी भी गैर मौजूदगी रहेगी। उन्होंने कहा है कि अदालत जो सजा देगी उन्हें मंजूर है।

 

Related Articles

Back to top button
E-Paper