बंगलादेश साम्प्रदायिक हिंसा : उच्च न्यायालय ने 60 दिनों के भीतर न्यायिक पैनल से की रिपोर्ट की मांग

ढाका। बंगलादेश के छह जिलों में हाल ही में दुर्गा पूजा के दौरान सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं के संदर्भ में बंगलादेश उच्च न्यायालय ने न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। आधिकारिक समाचार एजेंसी बंगलादेश संवाद संस्था के मुताबिक, गुरुवार को दिए आदेश में अदालत ने रंगपुर, कुमिला, चट्टोग्राम, फेनी, चांदपुर और नोआखली के न्यायिक मजिस्ट्रेटों को सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं की जांच करने और 60 दिनों के भीतर रिपोर्ट देने को कहा है।

बंगलादेश

उच्च न्यायालय ने संबंधित अधिकारियों से यह स्पष्ट करने के लिए भी कहा है कि पीड़ितों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय प्रशासन की ‘निष्क्रियता’ को अवैध क्यों नहीं घोषित किया गया। विदेश मंत्री एके अब्दुल माेमेन ने कहा है कि बंगलादेश में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं में छह लोगों की मौत हुई है, जिनमें से पुलिस गोलीबारी में चार मुसलमान भी मारे गए हैं। धार्मिक अल्पसंख्यकों की मौतों और दुष्कर्म की झूठी कहानियाें का प्रसार करने के लिए मोमेन ने कुछ मीडिया आउटलेट्स और व्यक्तियों की आलोचना की है और कहा है कि सभी अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

UP Election 2022 : सभी नेताओं को अचानक याद आने लगे रामलला, अयोध्या में बढ़ा राजनैतिक दलों का आना-जाना

गौरतलब है कि कुुमिला में एक पूजा मंडप में कुरान के अनादर के बाद बंगलादेश में कई स्थानों पर मंदिरों में तोड़फोड़ किए जाने और अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के घरों और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को नुकसान पहुंचाए जाने की घटनाएं देखने को मिली है। इसके बाद पुलिस ने इकबाल हुसैन नामक एक शख्स को गिरफ्तार किया है जिसने मंदिर में कुरान रखने की बात कबूल कर ली है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper