किसान आंदोलन को लेकर बोले संबित पात्रा, कहा- राहुल गांधी चाहते हैं कि सड़कों पर लड़ाई हो

संबित पात्रा

किसानों के मसले पर राहुल गांधी के बयान पर बीजेपी ने पलटवार किया है। बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने बुधवार को कहा कि राहुल गांधी चाहते हैं कि सड़कों पर लड़ाई हो। किसानों के कंधे पर सियायत की कोशिश की जा रही है। क्या उपद्रवी राहुल के अपने हैं?

ट्रैक्टर रैली हिंसा: दीप सिद्धू पर पांच लाख का इनाम, पुलिस महासंघ ने किया ऐलान

किसानों के मुद्दे पर राहुल गांधी के बयान के जवाब में संबित पात्रा ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि वे चाहते हैं कि सड़कों पर लड़ाई हो और राहुल गांधी किसान बंधुओं के कंधे पर बंदूक रखकर अपनी राजनीतिक रोटी सेंक रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज के प्रेस कॉन्फ्रेंस का शीर्षक है- ‘राहुल, रिहाना और रैकेट’।

राहुल क्यों बन रहे हैं किसानों के पैरोकार?

संबित पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी ने धमकाया कि कोई पीछे नहीं हटेगा, बातचीत में हम विश्वास नहीं रखते हैं। राहुल जी ये तो किसानों का आंदोलन हैं और किसानों ने कहा है कि उनका किसी राजनीतिक पार्टी से कोई सरोकार नहीं है। फिर आप उनके पैरोकार क्यों बन रहे हैं?

राहुल गांधी का बयान

राहुल गांधी ने आज कहा था कि सरकार किसानों के प्रदर्शन स्थल पर किलेबंदी कर रही है, क्या किसान देश के दुश्मन हैं। इस पर संबित पात्रा ने जवाब देते हुए कहा, “भारत की सरकार कील बिछाकर किलेबंदी कर रही है। आप ही लोगों ने 26 जनवरी को ये प्रश्न किया था कि दिल्ली पुलिस क्यों प्रीवेंट नहीं कर सकी। आज जब प्रीवेंटिव मेजर ले रही है तो आपको दिक्कत है।”

संबित पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी जी ने धमकाया कि कोई पीछे नहीं हटेगा, बातचीत में हम विश्वास नहीं रखते हैं। राहुल जी ये तो किसानों का आंदोलन हैं और किसानों ने कहा है कि उनका किसी राजनीतिक पार्टी से कोई सरोकार नहीं है। फिर आप उनके पैरोकार क्यों बन रहे हैं? ये उनकी अपरिपक्वता है।

उन्होंने कहा कि आप चाहते थे कि गोली चले, किसान पुलिस आपस में लड़ जाए, लाशें बिछ जाएं वो नहीं हुआ तो आपको दिक्कत हो रही है। कुछ लोग तिरंगे झंडे की जगह धार्मिक झंडे फहरा दिए तब आप कह रहे थे कि ये बीजेपी के लोग हैं जो किसानों को बदनाम कर रहे हैं और जब उनको गिरफ्तार किया जा रहा तब आप उनको लीगल एड देने और उनके गिरफ्तारी का विरोध कर रहे हैं इसका अर्थ है ये आपके ही लोग हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper