यूपी उपचुनाव में हार के बाद BSP प्रत्याशी ने छोड़ी पार्टी, प्रताड़ना का लगाया आरोप

देवरिया में बहुजन समाज पार्टी को बड़ा झटका लगा है। उपचुनाव में मिली हार के बाद बसपा उम्मीदवार रहे अभयनाथ त्रिपाठी ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने बसपा नेतृत्व पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। अभयनाथ त्रिपाठी 2017 के आम चुनाव में भी देवरिया सदर सीट से बसपा के प्रत्याशी रहे थे और बीते उपचुनाव में भी प्रत्याशी थे।

इन दोनों चुनावों में उन्हें न सिर्फ हार का सामना करना पड़ा बल्कि वह तीसरे स्थान पर रहे। भाजपा विधायक जन्मेजय सिंह के निधन से यह सीट खाली हुई थी। उपचुनाव में एक बार फिर भाजपा ने देवरिया सदर सीट पर अपना कब्जा बरकरार रखा और उसके प्रत्याशी सत्य प्रकाश मणि त्रिपाठी विधायक चुने गए।

बसपा अपने मूल उद्देश्य से भटक गई है: अभयनाथ त्रिपाठी

अभयनाथ त्रिपाठी ने आरोप लगाया है कि बसपा अपने मूल उद्देश्य से भटक गई है और अब केवल परिवारवाद व निजी स्वार्थ पर काम कर रही है। जनता भविष्य में इसका जवाब देगी। उन्होंने कहा है कि वह जनता की सेवा के लिए राजनीति में आए हैं और आगे भी सेवा करते रहेंगे। गौरतलब है कि यूपी की सात सीटों पर हुए उपचुनाव में बसपा का खाता भी नहीं खुला।

सात में 6 सीटों पर बीजेपी का कब्जा रहा तो एक सीट समाजवादी पार्टी के खाते में गई। बुलंदशहर की एक सीट को छोड़ दिया जाए तो बसपा बाकी 6 सीटों पर दूसरा स्थान भी नहीं हासिल कर सकी। भाजपा ने देवरिया सदर, बुलंदशहर, बांगरमउ, घाटमपुर, नौगांवा सादात और टूंडला सीट पर जीत दर्ज की, जबकि जौनपुर की मल्हनी सीट सपा ने जीता।

Related Articles

Back to top button
E-Paper