बगैर अनुमति प्रदर्शन मामले में प्रकरण दर्ज

महात्मा गांधी के खिलाफ बयानबाजी के बाद छत्तीसगढ़ पुलिस की गिरफ्त में आए विवादित संत कालीचरण की गिरफ्तारी के विरोध में बिना अनुमति के मध्यप्रदेश के इंदौर में हुए प्रदर्शन के मामले में पुलिस ने दो संगठनों के पदाधिकारियों समेत 50 अन्य लोगों के खिलाफ दप्रकरण दर्ज कर लिया है।

पुलिस निरीक्षक सविता चौधरी ने बताया कि कल दो संगठनों के कार्यकर्ताओं ने गांधी प्रतिमा पर बगैर अनुमति विरोध प्रदर्शन किया, जिसके बाद इन प्रदर्शनकारियों ने पुलिस आयुक्त कार्यालय में एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को एक ज्ञापन भी सौंपा। ज्ञापन में छत्तीसगढ़ की रायपुर पुलिस द्वारा कथित संत कालीचरण की गिरफ़्तारी का विरोध करते हुए उन्हें अविलंब रिहा किये जाने की मांग की गई।

उन्होंने बताया कि प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं ने विवादित नारेबाजी भी की। लिहाजा कल देर रात अवज्ञा की धाराओं में (भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत) प्रकरण दर्ज किया गया है। पुलिस निरीक्षक ने बताया कि आरोपियों की पहचान प्रदर्शन के दौरान मीडिया द्वारा तैयार किये गए वीडियो फुटेज से की जाएगी। कल दोपहर गांधी प्रतिमा पहुंचे लोगों ने यहां जमकर विवादित नारेबाजी की थी। संगठन के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के खिलाफ इस दौरान आपत्तिजनक टिप्पणी भी की थी।

कालीचरण ने पिछले दिनों रायपुर में आयोजित एक समारोह में महात्मा गांधी को लेकर विवादित बयान दिए थे। रायपुर पुलिस ने इस मामले में प्राथमिकी दर्ज कर कालीचरण को मध्यप्रदेश के खजुराहो से गिरफ्तार किया और वह उसे अपने साथ ले गयी है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper