लाल किला हिंसा मामले में देशद्रोह और यूएपीए के तहत केस दर्ज, स्पेशल सेल करेगी जांच

नई दिल्ली गणतंत्र दिवस पर किसान ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किला पर हुई घटना को लेकर दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने यूएपीए एक्ट और देशद्रोह का मामला दर्ज कर लिया है। इसके लिए रची गई साजिश का पता लगाने के लिए यह एफआईआर दर्ज की गई है। पुलिस जांच करके पता लगाएगी कि देश के भीतर एवं बाहर से कौन लोग लाल किले पर हुई घटना की साजिश में शामिल हैं।

लाल किला

गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा को लेकर पुलिस का एक्शन तेज हो रहा है। इसमें एफआईआर की संख्या भी बढ़ रही है। दिल्ली पुलिस ने अब तक 33 एफआईआर दर्ज कर ली हैं जबकि किसान नेताओं सहित कुल 44 लोगों के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया गया है। पुलिस चाहती है कि जांच पूरी होने तक यह लोग देश से बाहर न निकल सकें।

पुलिस के अनुसार, गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्टर रैली के लिए तय किये गए सभी नियमों का उल्लंघन किया गया। आंदोलनकारियों ने जगह-जगह हिंसा फैलाई और 394 पुलिसकर्मियों को घायल किया। इन घटनाओं को लेकर लगातार एफआईआर दर्ज की जा रही है। पुलिस मुख्यालय से मिली जानकारी के अनुसार अभी तक कुल 33 एफआईआर विभिन्न थानों  में दर्ज हो चुकी हैं। इनमें से नौ मामलों की जांच क्राइम ब्रांच करेगी जबकि अन्य मामलों की जांच लोकल थाना पुलिस द्वारा की जाएगी। पुलिस कमिश्नर की तरफ से कहा गया है कि हिंसा में शामिल जिन लोगों की भूमिका सामने आए, उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जाए।

44 लोगों की खोली गई एलओसी

दिल्ली पुलिस को आशंका है कि इस हिंसा से जुड़े कुछ लोग विदेश भाग सकते हैं। इसी आशंका को ध्यान में रखते हुए पुलिस की तरफ से अभी तक 44 लोगों के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी किया गया है। इनके पासपोर्ट भी पुलिस द्वारा जब्त किए जाएंगे। इसके अलावा अभी तक एक दर्जन से ज्यादा किसान नेताओं को पुलिस नोटिस भी भेज चुकी है। उनका जवाब मिलने के बाद उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा।

Related Articles

Back to top button
E-Paper