Chanakya Niti : बच्चों का पालन-पोषण करते समय मां-बाप इन बातों का रखें ध्यान

Chanakya Niti

आचार्य चाणक्य (Chanakya Niti) की नीतियां और विचार बहुत ही कठीन होते हैं। आज के भागदौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भले ही नजरअंदाज कर दें लेकिन ये जीवन का सत्य है। आचार्य चाणक्य ने मनुष्य को प्रभावित करने वाली हर चीज का बहुत ही सूक्ष्मता से अध्ययन किया था। आज का ये विचार माता पिता को बच्चों का पालन पोषण करते वक्त किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए इस पर आधारित है।

फरवरी में इस दिन बनेगा सबसे शुभ मुहूर्त, एक साथ बनेंगे तीन योग

पांच साल तक पुत्र का लाड एवं प्यार से पालन करना चाहिए। अगले दस साल तक उसे छड़ी की मार से डराना चाहिए। लेकिन जब वो 16 साल का हो जाए तो उससे मित्र के समान व्यवहार करना चाहिए।‘ आचार्य चाणक्य

माता-पिता का प्यार

आचार्य चाणक्य (Chanakya Niti) के अनुसार जब बच्चा नवजात हो तब से लेकर पांच साल तक उसका खूब लाड प्यार करना चाहिए। किसी भी बच्चे के जन्म से पहले ही उसका नाता अपनी मां से जुड़ जाता है। वहीं जन्म के बाद उसके पिता से। यानी कि दुनिया में माता पिता से अच्छा शिक्षक बच्चे का कोई नहीं होता। उसे इतना प्यार करें कि उसे लगे उसके माता पिता उससे कितना प्यार करते हैं। यही वो उम्र होती है जब बच्चे माता पिता की नजरों से इस दुनिया को देखते हैं।

माता-पिता का व्यवहार

जन्म के पांच साल बाद से अगले दस साल तक माता पिता को बच्चों को छड़ी की मार से डराना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि यही वो उम्र होती है जब बच्चे बहुत ज्यादा शैतानी करते हैं। बड़ों का मान सम्मान करना, लोगों से किस तरह से बात करनी है से लेकर व्यवहार का एक एक पाठ उन्हें पढ़ाया जाता है।

पेरेंट्स बनें बच्चों का दोस्त

वहीं जब बच्चा 16 साल का हो जाए तो पेरेंट्स को बच्चों का दोस्त बन जाना चाहिए। ये ऐसी अवस्था होती है जब उन पर माता पिता जरूरत से ज्यादा लगाम कस कर नहीं रख सकते। ऐसा इसलिए क्योंकि वो युवास्था में होते हैं और कुछ साल बाद बालिग भी हो जाएंगे। ऐसे में माता पिता को चाहिए कि वो बच्चों का दोस्त बनकर रहें।

Related Articles

Back to top button
E-Paper