फिल्म फेस्टिवल 2022 की तारीख का हुआ ऐलान, इस दिन होगा आयोजन

प्रख्यात अभिनेत्री एवं सांसद हेमामालिनी ने भारतीय साधना के अखिल भारतीय फिल्म समारोह, चित्र भारती फिल्म समारोह 2022 (CBFF 2022) के शुरू होने की घोषणा की। यह प्रसिद्ध फ़िल्म समारोह का चौथा संस्करण है। इस अवसर पर भारतीय चित्र साधना के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रो. बीके कुठियाला, वरिष्ठ टेलीविजन पत्रकार उमेश उपाध्याय तथा सतपुड़ा चलचित्र समिति के सचिव आशीष भवालकर भी उपस्थित रहे।

बुधवार को चित्र भारती फ़िल्म समारोह की घोषणा करते हुए हेमामलिनी ने कहा कि चित्र भारती युवाओं को आगे बढ़ने केलिए अवसर उपलब्ध करवा रही है। आज का सिनेमा पश्चिम का नकल कर रहा है। सिनेमा में भारतीय मूल्यों को बढ़ावा देने की आवश्यकता है। भारतीय चित्र साधना भारतीय मूल्यों को बढ़ावा देने वाले सिनेमा को बढ़ावा दे रहा है। उन्होंने कहा कि सिनेमा तेजी से लोगो को रोजगार उपलब्ध करवाने वाली इन्डस्ट्रीज है। उन्होंने बताया कि बदलते समय में ओटीटी जैसे नए प्लेटफॉर्म भी युवाओं को सिनेमा से जोड़ने में कारगर साबित हुआ है। इस अवसर पर भारतीय चित्र साधना के अध्यक्ष प्रो.बृज किशोर कुठियाला ने कहा कि आज का समय स्क्रीन का है।  हमारा जीवन स्क्रीन के कंटेंट से प्रभावित हो रहा है। स्क्रीन ने समाज को नई दिशा दी है। इसनके समाज को समाजिकता से जोड़ा है।

भारतीय चित्र साधना के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रो. कुठियाला ने बताया कि प्रत्येक दो साल पर होने वाला यह समारोह इस बार मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल झीलों के शहर में 18 फरवरी 2022 से 20 फरवरी 2022 तक होना तय है। सीबीएफएफ छह साल के अंतराल के बाद मध्य प्रदेश लौट रहा है।  पहली बार यह 2016  में राज्य के बहु-सांस्कृतिक वाणिज्यिक केंद्र इंदौर में आयोजित किया गया था।

वरिष्ठ पत्रकार उमेश उपाध्याय ने कहा कि भारत 22 भाषाओं का घर है और फिल्मों का निर्माण लगभग हर भाषा में किया जाता हैl हाल ही में ऑनलाइन पोर्टल्स और ओटीटी सहित डिजिटल प्लेटफार्मों ने ऑडियो-विजुअल कंटेंट के उत्पादन को तेजी दी है। जिसे आप इस प्लेटफार्म पर CBFF फिल्म निर्माताओं की लगातार बढ़ती भागीदारी की वजह से भी महसूस कर सकते हैंl

भारतीय चित्र साधना भारत की परंपराओं और विविधता का सम्मान करती है और मनाती है और ऑडियो-विजुअल क्षेत्र में भी इसे संरक्षित और बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयासरत है। सीबीएफएफ का प्रत्येक संस्करण सामाजिक और राष्ट्रीय प्रासंगिकता के विषयों पर प्रविष्टियां आमंत्रित करता है। विषयों का निर्णय पारंपरिक और समसामयिक मुद्दों को ध्यान में रखकर किया जाता है। CBFF फिल्म उद्योग के अग्रणी पेशेवर के साथ अपने प्रत्येक फेस्टिवल के दौरान मास्टर कक्षाएं आयोजित करता है।

2016 में राजपाल यादव, मनोज तिवारी, मधुर भंडारकर, केवी विजयेंद्र प्रसाद जैसी हस्तियों ने प्रतिभागियों और दर्शकों के साथ अपने अनुभव साझा किए थे। सीबीएफएफ 2020 के पिछले संस्करण में अन्य दिग्गजों के साथ साथ सुभाष घई और अब्बास-मस्तान की भी मास्टर क्लास थी।

Covid-19 प्रेरित कोरोना महामारी और उसके निरंतर बाद के मद्देनजर हाल ही में हाल ही में न सिर्फ फिल्म और टेलीविजन उद्योग के लिए बल्कि सामान्य  रूप से सभी वर्गों के लोगों के लिए भी बहुत चुनौतीपूर्ण रहा है। पूरी दुनिया को कोरोना के खतरे का सामना करना पड़ा। बाकी कारोबारियों की तरह ही फिल्म इंडस्ट्री को पूरी तरह से बंद का सामना करना पड़ा। आर्थिक गतिविधियों के पुनः आरंभ होने के बावजूद फिल्म उद्योग को लंबे समय तक इंतजार करना पड़ा क्योंकि इसमें करीबी शारीरिक निकटता शामिल है, लेकिन चीजें धीरे सामान्य रास्ते पर  लौट रही है। यैसे में फिल्म और टेलीविजन उत्पादन की गतिविधियों में भी गति आयी है।

हालांकि, लॉकडाउन अवधि के दौरान फिल्म निर्माण गतिविधि को सक्रिय रखने की आवश्यकता को महसूस करते हुए और Covid स्वास्थ्य प्रोटोकॉल पर जागरूकता को बढ़ावा देने के लिहाज़ से भारतीय चित्र साधना ने एक ऑनलाइन कोविड-19 लघु फिल्म समारोह का आयोजन भी किया था। इस प्लेफॉर्म पर लोगों को स्वास्थ्य प्रोटोकॉल बनाए रखते हुए Covid जागरूकता विषयों पर लघु फिल्मों में भेजने के लिए आमंत्रित किया गया था। 250 से अधिक प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं। लॉकडाउन में भी भारतीय चित्र साधना ने ऑडियो-विजुअल फील्ड में काम करना जारी रखा और शौकिया के साथ-साथ प्रोफेशनल फिल्म मेकर्स को भी शामिल किया। हमें उम्मीद है कि आने वाले दिनों में भी फिल्म और संबंधित गतिविधियों के माध्यम से राष्ट्र की सेवा जारी रहेगी।

Related Articles

Back to top button
E-Paper