गोरखपुर: सीएम योगी से मिले फरियादी, समस्याओं के त्वरित निस्‍तारण का निर्देश

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने गोरखपुर दौरे के दौरान दीपावली के दूसरे दिन बाबा गोरखनाथ के दर्शन-पूजन किए। उन्होंने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूरे विधि-विधान से बाबा गोरखनाथ की पूजा-अर्चना की और फिर अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधि स्थल पर पहुंचकर उनका आशीर्वाद लिया।

मुख्यमंत्री यहां अपनी पहले की तरह दिनचर्या का पालन करते दिखे। उन्होंने गोशाला पहुंचकर गो सेवा की और उन्हें अपने हाथ से गुड़ चना खिलाया। इस दौरान उन्होंने गायों को उनके नाम से बुलाकर दुलार भी किया। मुख्यमंत्री गोरखपुर प्रवास के दौरान गोशाला में जाकर समय जरूर व्यतीत करते हैं।

रविवार को उन्होंने फरियादियों से भी मुलाकात की। मुख्यमंत्री के गोरखपुर प्रवास की जानकारी होने के कारण सुबह से ही क्षेत्रीय लोग उनके समक्ष अपनी समस्याओं का निस्तारण कराने के लिए पहुंच गए थे। मुख्यमंत्री ने हर बार की तरह उनसे मुलाकात की, समस्याओं को सुना और अधिकारियों को प्राथमिकता से समस्याओं के त्वरित निस्तारण का निर्देश दिया।

मुख्यमंत्री केन्द्रीय औषधि एवं सगंध पौधा संस्थान (सी-मैप), महायोगी गोरखनाथ कृषि विज्ञान केंद्र और गोरखनाथ मंदिर के सहयोग से मंदिर में खिले फूलों से बनी अगरबत्ती ‘श्रीगोरखनाथ आशीर्वाद’ का लोकार्पण कार्यक्रम में भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री का दोपहर बाद उत्तराखंड जाने का कार्यक्रम है। वह केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम की यात्रा पर जाएंगे।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने दीपावली पर अपने आवास के शक्तिपीठ में लक्ष्मी और गणेश का पूरे विधि-विधान से पूजन की। मुख्यमंत्री ने मिट्टी ओर गाय के गोबर से बने दीयों को जलाकर प्रदेशवासियों को दिवाली शुभकामनाएं दी। उसके बाद मंदिर स्थित सभी देव-विग्रहों और ब्रह्मलीन महंतों की समाधि स्थल पर दीप प्रज्ज्वलित किए गए। पूरे परिसर में 5100 दीप प्रज्जलित किए गए।

मुख्यमंत्री ने प्रत्येक वर्ष की इस इस साल भी दीपावली गोरखपुर के वनटांगिया ग्राम में मनाई। उन्होंने दीपावली के पर जनपद गोरखपुर की ग्राम पंचायत तिकोनिया नम्बर-3 में वनटांगिया ग्राम के विकास हेतु लगभग 66 लाख की कुल 09 परियोजनाओं का तोहफा दिया।

इस मौके पर उन्होंने पूर्ववर्ती सरकारों पर तंज कसते हुए कहा कि जिले के वनटांगिया गांव से मुख्यालय तक पैदल पहुंचने में 70 मिनट लगते हैं। लेकिन, यहां तक बुनियादी सुविधाएं पहुंचने में 70 साल लग गए। प्रदेश में भाजपा की सरकार आने पर जिले के चयनित पांच वनटांगिया बस्ती को राजस्व ग्राम का दर्जा दिया गया है। पक्के मकान, शौचालय, पेंशन, मालिकाना हक, हैंडपंप, सड़क, बिजली आदि सुविधाएं उपलब्ध कराई गईं।

उन्होंने कहा कि समाज में कोई भी पात्र व्यक्ति योजना से लाभान्वित होने से वंचित न हो इस दिशा में बिना भेदभाव केन्द्र और प्रदेश सरकार कार्य कर रही है। सबका साथ सबका विकास के भाव से सरकार कार्य कर रही है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper