सीएम योगी ने 800 से ज्यादा बेटियों के हाथ कराए पीले, 841 परिवारों को मिली मदद

योगी सरकार

योगी सरकार में हो रहा हर वर्ग का कल्याण, गरीब परिवार हुए सीएम योगी के मुरीद

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समाज के सभी वर्गों के विकास के लिए तमाम योजनाएं चला रहे हैं। जिससे सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास के साथ उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश बन सके। ऐसी ही एक योजना है शादी अनुदान योजना। जिसके तहत गोरखपुर में 2020-2021 में 841 गरीब परिवारों को बेटी की शादी के लिए 20 हजार रुपए का अनुदान दिया गया है।

गरीब की बेटी की शादी में किसी प्रकार की कोई दिक्कत न आए, इसके लिए 2017 में सत्ता में आने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस योजना को दोबारा शुरु करते हुए अनुदान राशि को भी दोगुना कर दिया था। पिछली सरकारों में इस योजना के लिए गरीब परिवार को 10 हजार रुपये की अनुदान दिया जाता था, लेकिन अपनी विफलताओं के कारण पिछली सरकार ने इस योजना को बंद कर दिया था।

2013-14 में मिलते थे सिर्फ 10 हजार

विवाह अनुदान की योजना के तहत 2013 और 2014 में तत्कालीन सरकार सिर्फ 10 हजार का अनुदान देती थी, लेकिन बाद में 2015-16 में तत्कालीन सरकार ने इस योजना को पूरी तरह से बंद कर दिया। इसका नतीजा यह रहा कि गरीब बेटियों की शादी में थोड़ी सी मिलने वाली मदद भी उनसे कोसो दूर चली गई थी। जिसके बाद गरीबों की उम्मीद टूट चुकी थी।

मुख्यमंत्री योगी ने फिर शुरू की योजना

योगी आदित्यनाथ मार्च 2017 में जब मुख्यमंत्री बने, तो पहली निगाह उनकी विवाह अनुदान योजना पर गई। जिसके लिए उन्होंने संबंधित विभाग से जानकारी मांगी, तो पता चला कि पिछली सरकार ने इस योजना को बंद कर दिया है। इसके बाद उन्होंने कैबिनेट की मीटिंग बुलाई और इस अनुदान को 10 की जगह 20 हजार करने की घोषणा की। उनकी इस घोषणा का नतीजा रहा कि एक बार फिर गरीब परिवारों को बड़ा सहारा मिला। इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सामूहिक विवाह योजना की भी शुरुआत की। जिसके तहत गोरखपुर जिले में ही सैकड़ों परिवारों की बेटियों के हाथ पीले हुए। सामूहिक विवाह योजना के तहत उन सभी परिवारों में उम्मीद जगी, जो आर्थिक तंगी की वजह से अपनी बेटियों का विवाह न कर पाने को मजबूर थे।

कितने परिवारों को मिला अनुदान

आंकड़ों की बात करें तो वर्ष 2016-17 में 1712 परिवारों को इससे लाभ मिला, वहीं 2017-18 में 1719 परिवार, वर्ष 2018-19 में 1865 परिवार, वर्ष 2019-20 में 2222 परिवार और 2020-2021 में 841 परिवार इस योजना से लाभांवित हुए हैं।

मुख्यमंत्री योगी के मुरीद हुए अनुदान पाने वाले परिवार

सहजनवां ब्लाक के भरसाड़ निवासी रहोली, अनंतपुर की कुंतीदेवी की अगर हम बात करें, तो यह अनुदान इनके लिए बड़ा सहारा बना। पिपरौली परसाडाड़ की लालमती देवी भी काफी खुश हैं। वहीं, पाली ब्लाक के टिकरिया निवासी महंथ अनुदान पाने के बाद योगी सरकार के मुरीद हो गए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को धन्यवाद देते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की तरफ से छोटी ही सही, लेकिन समय से मिला अनुदान उनकी बिटिया की शादी के लिए काफी मायने रखता है। वह इस अनुदान की आस छोड़ चुके थे, लेकिन जब उनके मोबाइल में रकम आने का मैसेज आया, तो जैसे उनमें जान आ गई। क्योंकि तब उन्हें पैसे की काफी जरूरत थी। ऐसे ही बेलघाट ब्लाक की गुड्डी देवी, चरगांवा ब्लाक के महराजगंज की सुनीता देवी, उरुवां ब्लाक के रामप्रीत और पाली ब्लाक की रहने वाली जानकी जैसे हजारों परिवार इस योजना से लाभांवित हो रहे हैं और प्रदेश सरकार को इसके धन्यवाद ज्ञापित कर रहे हैं।

ऐसे मिलता है अनुदान

जिला पिछड़ा कल्याण विभाग के अधिकारी नितिन सिंह की मानें तो इस अनुदान के लिए ऑनलाइन आवेदन करना होता है। इसके बाद ब्लाक के जरिए शादी कार्ड सहित प्रार्थना पत्र देना होता है। इसके बाद विभाग आवेदक की मूलप्रति (हार्ड कापी) जमा कराता है। इसके बाद इसे विवाह अनुदान कमेटी को भेजा जाता है, जिसकी देखरेख जिलाधिकारी और सीडीओ करते हैं। उनके द्वारा स्वीकृत होने के बाद विभाग ई-पेमेंट के जरिए रुपये सीधे आवेदक के खाते में भेजता है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper