बाराबंकी राम राज्य का द्वार है

मुख्यमंत्री ने बाराबंकी में 148.85 करोड़ रु0 लागत की 186 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया

बाराबंकी राम राज्य का द्वार है

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद बाराबंकी में 148.85 करोड़ रुपये लागत की 186 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इसमें विधान सभा सदर की 83, विधान सभा रामनगर की 50 तथा विधान सभा कुर्सी की 53 विकास परियोजनाएं शामिल हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों को प्रमाण-पत्र एवं
स्वीकृति-पत्र भी प्रदान किये।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए महादेवा की पावन धरती पर विकास की परियोजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास के लिए जनपदवासियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज यहां ब्रिटानिया लि0 की बिस्किट एवं बेकरी निर्माण की इकाई का शिलान्यास भी सम्पन्न हुआ है। इस परियोजना की लागत 340 करोड़ रुपये है। उन्होंने कहा कि विकास की इन योजनाओं के माध्यम से जनपदवासियों के जीवन में व्यापक बदलाव और आमूल-चूल परिवर्तन आएगा, जो उनके जीवन को खुशहाल बनाने में सहायक होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपद बाराबंकी 02 बातों के लिए महत्वपूर्ण है। पहली यह कि बाराबंकी के बाद से भगवान श्रीराम की धरती प्रारम्भ हो जाती है। यह जनपद राम राज्य का द्वार है। दूसरा बाराबंकी के किसानों ने अपने परिश्रम और पुरुषार्थ से यहां की कृषि को नई ऊंचाइयां प्रदान की हैं। बाराबंकी के एक अग्रणी प्रगतिशील किसान श्री रामशरण वर्मा को भारत सरकार ने पद्मश्री से सम्मानित किया है। ऐसी अनेक विभूतियां इस जनपद में जन्मी है, जिन्होंने आजादी की लड़ाई में अपना योगदान दिया है। आजाद भारत की तस्वीर किस प्रकार की होनी चाहिए, उसी के अनुरूप गरीबों, महिलाओं और समाज के प्रत्येक तबके के लिए विभिन्न प्रकार की जनकल्याणकारी योजनाएं प्रधानमंत्रीके विजन के अनुरूप चलायी जा रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 500 करोड़ रुपये की परियोजनाओं के शिलान्यास व लोकार्पण का कार्य बाराबंकी जनपद में सम्पन्न हो रहा है। इसमें सड़क, हाॅस्पिटल, ग्रामीण विकास, शहरी विकास, शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलम्बन, पर्यटन से सम्बन्धित यह परियोजनाएं रोजगार की व्यापक सम्भावनाओं को आगे बढ़ाने वाली हैं। उन्होंने कहा कि बाराबंकी जनपद में चैराहों के सुन्दरीकरण का कार्य सराहनीय है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपद बाराबंकी में सरकारी निवेश के साथ-साथ निजी क्षेत्र का निवेश हो रहा है, जिसके अन्तर्गत ब्रिटानिया इण्डस्ट्रीज लिमिटेड की बिस्किट एवं बेकरी उत्पाद इकाई का निर्माण कार्य का भी शिलान्यास किया गया है। इससे स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा और किसानों को भी लाभ होगा। यहां पर रोजगार की सम्भावनाओं के दृष्टिगत कौशल विकास के कार्यक्रम भी संचालित किए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले समय में इस प्रकार की कई अन्य परियोजनाएं जनपद बाराबंकी में आयेंगी। इससे जनपद बाराबंकी विकास की नई ऊंचाइंयों पर पहुंचेगा। केन्द्र और राज्य सरकार प्रदेश के विकास के लिए प्रभावी कार्यवाही कर रही है। विकास प्रत्येक नागरिक के जीवन में परिवर्तन लाएगा। इससे हर एक नागरिक के चेहरे पर खुशहाली आएगी। उन्होंने कहा कि जनता का विकास हो और विकास की योजनाएं हर गरीब के घर तक पहुंचें, इसी उद्देश्य से केन्द्र और राज्य सरकार बिना भेदभाव के समाज के प्रत्येक तबके के कल्याण और उत्थान के लिए कार्य कर रही है।

मुख्यमंत्रीने कहा कि गरीबों को आवास की सुविधा उपलब्ध करायी गयी। बड़े पैमाने पर शौचालयों का निर्माण कराया गया है। कानून व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए प्रभावी कदम उठाए गए हैं। अपराधी कोई भी होगा, उसकी जाति, मत, मजहब नहीं पूछा जायेगा, अगर उसने अपराध किया है तो कानून के दायरे में लाकर सख्त से सख्त सजा दिलाने का कार्य किया जाएगा। विकास की योजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए सुरक्षा का वातावरण आवश्यक है। उन्होंने कहा कि नौजवान पलायन न करें, इसके लिए सरकारी नौकरी के साथ-साथ उसकी पंसद का रोजगार उनके गांव, कस्बे व जनपद में प्राप्त हो, इसके लिए प्रयास किया जाना चाहिए था। अब वर्तमान सरकार द्वारा इस कमी को दूर किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार की पहल, इच्छाशक्ति, पारदर्शिता और ईमानदारी से विगत साढ़े चार वर्षों में साढ़े चार लाख लोगों को सरकारी नौकरी प्रदान की गई। इस साढ़े चार वर्ष के दौरान निजी क्षेत्र में 03 लाख करोड़ का निवेश हुआ और 01 करोड़ 61 लाख लोगों को रोजगार मिला। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, एक जनपद एक उत्पाद, विश्वकर्मा सम्मान योजना आदि योजनाओं के माध्यम से लोगों को रोजगार के साथ जोड़ने का कार्य भी उत्तर प्रदेश सरकार ने किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया डेढ़ वर्ष से कोरोना महामारी से त्रस्त है। जनपद के जनप्रतिनिधियों ने जिला प्रशासन, हेल्थ वर्कर्स, कोरोना वाॅरियर्स के साथ मिलकर, कोरोना महामारी को नियंत्रित करने के लिए सराहनीय कार्य किए हैं। आज यह महामारी उत्तर प्रदेश में लगभग समाप्ति की ओर है। इस महामारी के दौरान प्रधानमंत्रीके नेतृत्व व मार्गदर्शन में गरीबों को निःशुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया। उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक वैक्सीनेशन और टेस्टिंग की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के दौरान बच्चों का अन्नप्राशन किया। पोषण पोटली, प्रधानमंत्री आवास योजना की चाभी, आसरा योजना में सामूहिक आवंटन पत्र, सामुदायिक शौचालय संचालन हेतु धनराशि का चेक, एक जनपद एक उत्पाद योजना  के वित्त पोषण हेतु चेक, टूलकिट, पुत्री विवाह अनुदान योजना में स्वीकृति पत्र, उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना में स्वीकृति पत्र, आयुष्मान भारत योजना में गोल्डन कार्ड तथा कोविड-19 से दिवंगत कर्मचारियों के परिजनों को एक मुश्त अनुग्रह धनराशि का चेक, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत स्वीकृत पत्र सहित विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के स्वीकृति पत्र व चेक वितरित किए।

कार्यक्रम को वन मंत्री दारा सिंह चैहान तथा विधान परिषद सदस्य स्वतंत्र देव सिंह ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper