सीएम योगी ने ‘मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना’ का किया ऑनलाइन शुभारंभ, मेधावियों को मिलेगी सहूलियत

कानपुर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को निर्बल आय के परिवारों के बच्चे प्रतिभावान, मेधावी व लगनशील छात्रों के लिये विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की निःशुल्क तैयारी के लिए “मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना” का आनलाइन शुभारम्भ किया। जनपद में यह कार्यक्रम मुख्य अतिथि नीलिमा कटियार, उच्च शिक्षा राज्य मंत्री के तत्वाधान में छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय कानपुर में यूआईईटी भवन में आयोजित किया गया।

मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि “मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना” आज युवाओं को समर्पित की जा रही है। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 प्रतिभाओं की धरती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के प्रतिभाशाली युवाओं को इस महत्वाकांक्षी योजना के लागू होने से वह अपने जीवन में आगे बढ़ सकेंगे।

अजमेर शरीफ में ख्‍वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती का 809वां उर्स, पीएम मोदी ने भिजवाई चादर

कहा कि “मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना” सर्वप्रथम 18 कमिश्नरी मुख्यालय में प्रारम्भ किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह योजना समग्र रुप से निरन्तर आगे बढ़ती रहेगी। इसमें टेस्ट भी होगें। नये लोगो का जुड़ाव भी होता रहेगा। सरकारी एवं गैर सरकारी सस्थाओं के माध्यम से छात्रों को विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए बेहतर मार्गदर्शन, कुशल प्रबन्धन व तैयारी करायी जायेगी।

योजना के माध्यम से निर्वल आय के परिवारों के बच्चे एवं प्रतिभाशाली तथा उत्साही विद्यार्थियों को उचित मार्ग दर्शन के अलावा “मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना” के अन्तर्गत प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे सिविल सेवा परीक्षा, पीसीएस, जेईई, नीट, एनडीए, सीडीएस इत्यादि के लिए निःशुल्क साक्षात प्रशिक्षण/आनलाइन प्रशिक्षण/सलाह प्रदान की जायेगी। उन्होंने कहा कि सरकार अच्छी से अच्छी फैकेल्टी को जोड़कर छात्रों का शिक्षा का स्तर ऊंचा उठायेगी। उन्होंने कहा कि अब तक 50 लाख लोग इस योजना से सीधे जुड़ चुकेे है। 05 लाख से ऊपर बच्चों ने फार्म भरा है। उन्होंने कहा कि जल्द ही प्रदेश के छात्र देश और दुनिया के अन्दर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवायेगें।

कहा कि, छात्र उचित मार्ग दर्शन प्राप्त कर अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिये निरन्तर संघर्षशील रहे। सरकार आपकी प्रतिभा को उचित मंच देने का कार्य करेगी। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में हर एक प्रकार की प्रतियागी परीक्षाओं को इस योजना से जोड़ा जायेगा। उन्होंने कहा कि योजना के माध्यम से छात्र संसारिक जीवन में भी उत्कर्ष कार्य कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि छात्र शुरुआती दौर में ही अपने बुनियाद को मजबूत करले। राज्य सरकार युवाओं के भविष्य को उज्जवल बनाने के लिये कटिबद्ध है।

कहा कि सरकार 04 लाख युवाओं को अब तक नौकरी दे चुकी है। योजना से अच्छे और दक्ष लोग आगे—आगे आकर प्रदेश की 24 करोड़ जनता की सेवा में अपना योगदान देंगे। उन्होंने कहा कि यह युवाओं के सर्वागीण विकास का प्रारम्भ है। इस मौके पर उन्होंने कई मण्डलों के विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के विद्यार्थियों से सीधे संवाद किया। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत सर्वप्रथम वर्चुअल माध्यम से बाद में जरुरत पड़ने पर फिजिकली दोनों प्रकार की व्यवस्था की जायेगी।

शिक्षा में गुणात्मक परिवर्तन व गुणवत्ता को मिलेंगे नये आयाम

मुख्य अतिथि उच्चशिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती नीलिमा कटियार ने कहा कि “मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना” से उ0प्र0 की शिक्षा में गुणात्मक परिर्वतन व शिक्षा की गुणवत्ता को नये आयाम मिलेगें। उन्होंने मुख्यमंत्री को बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र तथा निर्वल आय के परिवारों के बच्चों को प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे सिविल सेवा परीक्षा, पी0सी0एस, जे0ई0ई0, नीट, एन0डी0ए0, सी0डी0एस0, एस0एस0सी0, बैकिंग, बी0एड0, टी0ई0टी0, यू0पी0एस0एस0एस0सी0 तथा अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए विधार्थियों को उचित मार्गदर्शन व सहयोग के बारे में सोचा, जो मुख्यमंत्री की दृढ़ इच्छाशक्ति की परिकल्पना है।

कहा कि यह योजना सवेदनशील सरकार का अप्रीतम उदाहरण है। चुनौतियों को अवसर में देखने की योजना है। खासतौर पर संसाधनों की कमी से जुझने वाले निर्वल आय के परिवारों के छात्रों को आगे बढ़ने का मौका मिलेगा। उ0प्र0 की पहचान विश्वस्तर पर उभर कर आयेगी। उन्होंने कहा कि यह योजना तमाम बेरोजगारों के लिये मील का पत्थर बनेगा। अन्तिम पायेदान पर कमजोर छात्रों को लाभ मिलेगा। आज उ0प्र0 सरकार ने युवाओं को एक सौगात दी है। मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना से छात्रों को पठन पाठन की सामग्री भी उपलब्ध करायी जायेगी।

शिक्षा के क्षेत्र में आएगा सकारात्मक परिर्वतन

मण्डलायुक्त डा0 राज शेखर ने कहा कि “मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना” यूपी के इतिहास में शिक्षा के क्षेत्र में सकारात्मक परिर्वतन आने वाले दिनों में लेकर आयेगी। उन्होंने कहा कि लाॅकडाउन के दौरान राजस्थान के कोटा में हजारों छात्र विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए गये हुये थे वह वहा कोरोना काल के चलते फस गये थे और अपने घर नहीं पहुंच पा रहे थे। जिसके चलते परिवहन निगम की हजारों बसे लगाकर कोटा से छात्रों को उनके घर तक सुरक्षित पहुंचाया गया।

इसी को दृष्टिगत रखते हुये उ0प्र0 के यशस्वी मुख्यमंत्री ने छात्रों को प्रदेश में ही विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु उचित मार्ग दर्शन एवं निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान करने की योजना बनायी जिसके तहत “मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना” का आनलाइन शुभारम्भ आज मुख्यमंत्री द्वारा किया गया है। यह एक सार्थक और प्रभावशाली योजना है जो छात्रों का उज्जवल भविष्य तय करेगी। छात्रों के जीवन निर्माण की यह योजना एक नयी शुरुआत है।

इस मौके पर विधायक भगवती सागर, सुरेन्द्र मैथानी, महेश त्रिवेदी, जिलाधिकारी आलोक तिवारी, एसएसपी/डीआईजी डा0 प्रीतिन्दर सिंह, कुलपति नीलिमा गुप्ता, मुख्य विकास अधिकारी डा0 महेन्द्र कुमार, सुधाशुं राय के अलावा संबंधित प्रशासनिक अधिकारीगण एवं चयनित छात्र मौजूद रहें।

Related Articles

Back to top button
E-Paper