सीएम योगी का अखिलेश यादव पर तंज, यूपी में 2017 से पहले हर तीसरे दिन होता था दंगा

बदायूँ उत्‍तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 2017 से पहले उत्तर प्रदेश दंगे की आग में झुलसता रहता था और जान जाने के डर से कोई व्यापारी पूंजी निवेश को तैयार नही था जबकि आज हालात बिल्कुल जुदा है क्योंकि उनकी सरकार माफिया और अपराधी तत्वों को उनके लोक में पहुंचाने का काम कर रही है।

बदायूं के सहसवान क्षेत्र में प्रमोद इंटर कालेज में आयोजित एक कार्यक्रम में योगी ने मंगलवार को लगभग 1400 करोड़ रूपये की योजनाओं का लोकार्पण शिलान्यास करने के बाद कहा कि 2017 के पहले केंद्र सरकार द्वारा कोई सर्वे कराया जाता था तो उसमें उत्तर प्रदेश देश में फिसड्डी नंबर पर रहता था आज जब कोई सर्वे आता है तो उत्तर प्रदेश के फर्स्ट या सेकेंड नंबर पर रहता है। जो सपना उत्तर प्रदेश के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देखा था उसको यूपी ने साढ़े चार साल में ही पूरा किया।

समाजवादी पार्टी (सपा) की पिछली सरकार पर तंज कसते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 2017 से पहले हर तीसरे दिन दंगा होता था। कोई व्यापारी पूंजी निवेश को तैयार नही था क्योंकि पूंजी के साथ-साथ उसको जान का भी खतरा था। महिलाओं पर निरंतर अत्याचार हो रहे थे और तत्कालीन मुख्यमंत्री का परिवार अवैध वसूली में लगा हुआ था गुंडे माफिया सरकार पर हावी थे। अगर दंगाइयों के खिलाफ कोई आवाज़ उठाता था तो उसे झूठे मुकद्दमों में जेल भेज दिया जाता था।

उन्होने कहा कि साढ़े चार साल में जनता ने हर वर्ष दीपावली का पर्व मनाया है। गोवर्धन पूजा से लेकर भईया दूज सब शांति से मनाए गए। पहले कोरोना नही था मगर दंगे थे। कर्फ्यू था अराजकता थी गुंडे माफियाओं की फौज थी हर तरफ हाहाकार था।

योगी ने कहा, “हमने महिला पुलिस की भर्ती कराई,86 हजार किसानों का कर्जा माफ किया।अबैध बूचड़खानों को बंद किया।” विपक्ष को कटघरे में खड़े करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा “कोरोना के समय विपक्ष के लोग होम आइसोलेशन में चले गए और विपत्ति में आपके पास नही आये। जब वे लोग  ट्वीटर पर जवाब देते थे तो चुनाव में आप लीग भी ट्वीटर पर जवाब देना।”

उन्होंने कहा “ याद करिए समाजवादी पार्टी की सरकार 2012 में आई थी उस सरकार में सबसे पहला काम तो हुआ था कोसीकला का दंगा,फिर बरेली में दंगा, लखनऊ में दंगा,मुज्जफरनगर में दंगा, कानपुर में दंगा ऐसा कोई जनपद नहीं जहाँ दंगा ना हुआ हो और सरकार ने क्या काम किया था । जब समाजवादी पार्टी की सरकार आई थी तो उन्होंने गरीबों के लिए किसानों के लिए नहीं नौजवानों के लिए नहीं महिलाओं के लिए नहीं बल्कि कुछ सरकार ने श्री राम जन्म भूमि पर आतंकी हमला करने वाले आतंकवादियों के मुकदमों को वापस लेने का काम किया था। आतंकवादियों को मुख्यमंत्री आवास पर बुलाकर करके सम्मानित किया जाता था लेकिन हमारी सरकार में आतंकवादियों को उनके लोक में पहुंचाने का कार्य होता है। आतंकवादियों के साथ किसी प्रकार की कोई रियायत नहीं होती है। ”

अखिलेश यादव पर करारा हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि जब भी प्रदेश में सरकारी नौकरियां निकलते ही पूरा का पूरा खानदान वसूली के लिए निकल पड़ता था और पूरे परिवार में कोई व्यक्ति ऐसा नही था जो महाभारत की याद न दिलाता हो। कोई चाचा ,था कोई भतीजा था, कोई मामा था। पिछली सरकार में उनका खानदान ही प्रदेश था। उनका एक ही उद्देश्य था कि जैसे भी हो बस उनका खानदान पैसे कमा ले ,विदेश में पैसा जमा कर ले,आइलैंड खरीद ले। पेशेवर अपराधियो को गले से लगाया जाता था। विकास का कोई एजेंडा नही था।

उन्होंने कहा “ मेरे लिए 25 करोड़ की आबादी ही मेरा परिवार है। बदायूँ वेदामऊ के रूप में जाना जाता था भागीरथ ने यहां तपस्या की माँ गंगा के क्षेत्र से जुड़ी उपजाऊ जमीन जो हमारे पास है किसी के पास नही है। जिस अयोध्या में जाने से घबराते थे । पहले लोग राम के होने पर प्रश्न खड़ा करते थे लेकिन अब अयोध्या में दीवाली देखकर गर्वित होते हैं। यहां की दीवाली ने विश्व को आकर्षित किया है। हमारी सरकार ने 2017 में सबसे पहला काम महिला सुरक्षा के लिए किया।”

Related Articles

Back to top button
E-Paper