दुनिया में फिर से बढ़ा कोरोना वायरस संक्रमण, ब्राजील में बिगड़े हालात, ऑकलैंड में लॉकडाउन

ब्रासिलिया/वेलिंगटन/वाशिंगटन। कोरोना का संक्रमण एकबार फिर तेजी से फैल रहा है। जहां ब्राजील में हालात बिगड़ने लगे हैं वहीं न्यूजीलैंड में संक्रमण के मामले बढ़ने के कारण अलर्ट जारी किया गया है। ऑकलैंड में लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई है। जबकि अमेरिका में कोरोना संक्रमण काबू में आने के बाद कोविड जांच कम कर दी गई है।

ब्रासीलिया में लॉकडाउन

ब्राजील की राजधानी ब्रासीलिया में कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए 24 घंटे का लॉकडाउन लगाया गया है। कुछ शहरों में रात का कर्फ्यू भी लगा है। एक दर्जन शहर ऐसे हैं, जहां मरीजों के लिए अस्पतालों में बिस्तरों की कमी है।

न्‍यूजीलैंड में अलर्ट का स्‍तर बढ़ा

प्रधानमंत्री जैकिंडा अर्डर्न ने बताया कि न्यूजीलैंड में शनिवार को दो ताजा सामुदायिक मामलों की पुष्टि हुई है। न्यूजीलैंड के सबसे बड़े शहर ऑकलैंड में लॉकडाउन हटाने के बाद एक हफ्ते के लिए दोबारा लॉकडाउन लगा दिया गया है।

समाचार एजेंसी सिन्‍हुआ के हवाले से कहा गया है कि न्‍यूजीलैंड में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते अलर्ट के स्‍तर को बढ़ा दिया गया है। न्यूजीलैंड का सबसे बड़ा शहर ऑकलैंड में कोरोना अलर्ट लेवल एक से बढ़कर तीन कर दिया गया है जबकि अन्य जगहों पर अलर्ट लेवल दो है। हालांकि प्रधानमंत्री जैकिंडा अर्डर्न ने कहा कि न्यूजीलैंड में लोगों को जरूरी सामान खरीदने की अनुमति होगी।

रूस में 24 घंटे में 11 हजार से अधिक मामले

वहीं रूस में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 11,534 नए मामले आए हैं जिससे संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 4,234,720 हो गया है।

अमेरिका में कोविड जांच में आई गिरावट

एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में अब प्रति दिन होने वाली जांच में 28 फीसद तक गिरावट आई है। संक्रमण का हॉटस्पॉट बन चुके लास एंजिलिस काउंटी में महज कुछ हफ्ते पहले प्रति हफ्ते 3,50,000 से ज्यादा लोगों की कोरोना जांच हो रही थी लेकिन इसमें कमी आई है। अमेरिका में जांच अभियान का नेतृत्व करने वाले डॉ. क्लेमेंस होंग ने कहा कि यह चौंकाने वाला है कि इतनी जल्दी हम सौ मील प्रति घंटा की रफ्तार से 25 मील प्रति घंटा की स्‍पीड पर पहुंच गए हैं।

नई स्‍ट्रेन को लेकर जताई चिंता

अमेरिकी विशेषज्ञों को कोरोना वायरस की नई स्‍ट्रेन को लेकर चिंता भी जताई है। अमेरिका के सलाहकारों ने जॉनसन एंड जॉनसन की एक डोज वाली वैक्सीन को कोरोना की महामारी से लड़ने में कारगर बताया है। फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन को भी उम्मीद है कि जॉनसन की वैक्सीन को तीसरी वैक्सीन के रूप में लगाने की अनुमति मिल जाएगी। यह वैक्सीन पहली ही डोज के बाद काम करना शुरू कर देती है।

न्यू मैक्सिको में बढ़े केस

न्यू मैक्सिको में तीन सप्ताह के बाद फिर नए मामलों में तेजी आई है। यहां पर कुल मरीजों की संख्या साढ़े अठारह लाख से ज्यादा हो गई है। रूस में एक दिन में 11 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं। कनाडा ने अपने यहां एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को सभी वयस्कों में लगाने की मंजूरी दे दी है। फाइजर और माडर्ना के बाद यह तीसरी वैक्सीन है, जिसे मंजूरी दी गई है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper