मुंबई में तबाही मचाने के बाद गुजरात पहुंचा तूफान तौकते, अहमदाबाद और गांधीनगर में हाई अलर्ट

अरब महासागर से उठे तूफान तौकते ने मुंबई के बाद अब गुजरात में भारी तबाही मचाई है। चक्रवाती तूफान देर रात गुजरात के तट से टकराया। समुंद्र तट के करीबी इलाके पोरबंदर और महुवा में जब ये तूफान दाखिल हुआ, तो उस समय 190 किमी प्रति घन्टे की रफ्तार से हवाएं चलने लगी। इस तूफान से मुंबई और कर्नाटक में अब तक 12 लोगों ने जान गवाई हैं। वहीं गुजरात में तकरीबन 2 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया है।

मौसम विभाग के अनुसार, गुजरात पहुंचने से पहले तूफान ने मुंबई में भारी तबाही मचाई है। इससे महाराष्ट्र में 6 लोगों की मौत हो गई, जबकि 9 लोग घायल हो गए। सीएम उद्धव ठाकरे ने राहत कार्य में और तेजी लाने के निर्देश दिए हैं। वहीं, इस चक्रवाती तूफान ने कर्नाटक के 121 गांवों में तबाही मचाई है। इसकी वजह से अलग-अलग घटनाओं में 6 लोगों ने जान गंवाई है।

इस बीच ओएनजीसी की बोट पर फंसे 273 लोगों में से अब तक 146 लोगों को सुरक्षित बचाया जा चुका है। 127 लोग अभी भी लापता हैं, जिनकी तलाश जारी है।

तूफान से सौराष्ट्र के हजारों गांवों में बिजली गुल हो गई है। कई जगह पर पेड़ जड़ से उखड़ गए हैं। हवाएं इतनी तेज थी कि कच्चे मकान की छत और टीन शेड तक उड़ा ले गई। गुजरात के कई जगहों पर 1 मिमी से 8 इंच तक बारिश हुई है। मौसम विभाग ने मंगलवार को गुजरात के कई जिलों में भारी बारिश की आशंका जताई है। इसे देखते हुए गांधीनगर और अहमदाबाद में हाई अलर्ट जारी किया गया है।

गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने कहा कि सूबे के तटीय जिलों के जिलाधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद वे पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से संपर्क में हैं। केंद्र ने इस आपदा से निपटने के लिए हर संभव मदद देने का ऐलान किया है। साथ ही तीनों सेनाओं को जरूरत पड़ने पर मदद के लिए तैयार रहने के लिए कहा गया है।

तौकते तूफान की तुलना 9 जून, 1998 को आए चक्रवादी तूफान से की जा रही है, जिसमें मरने वालों की संख्या 1,173 थी। वहीं, 1,774 लापता हो गए थे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper