कांग्रेस परिवार के इकलौते कम्युनिस्ट पूर्व विधायक का निधन, सीएम ने जताया शोक

पटना/नवादा। मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय सचिव व पोलित ब्यूरो के सदस्य पूर्व विधायक गणेश शंकर विद्यार्थी के निधन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरी शोक संवेदना प्रकट की है। पटना के एक निजी अस्पताल में मंगलवार को उन्‍होंने अंतिम सांस ली। वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे। वे बिहार के नवादा जिले के रजौली के रहने वाले थे।

पूर्व विधायक

वर्ष 1924 में नवादा जिले के रजौली में पूर्व विधायक गणेश शंकर विद्यार्थी का जन्म हुआ था। उनका परिवार इलाके में काफी प्रतिष्ठित था। 12 वर्ष की उम्र में ही अंग्रेजी हुकूमत के समय अंग्रेजी हुकूमत के इमारत पर नवादा में तिरंगा फहराने वाले वामपंथी थे।

प्रधानमंत्री की आपत्तिजनक फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाला आरोपित गिरफ्तार

बता दें कि गणेश शंकर विद्यार्थी वर्ष 1952 से ही राजनीतिक में आए थे। दरअसल इनका परिवार कांग्रेसी था, जबकि ये अपने परिवार में सिर्फ अकेले इंसान थे जो कम्युनिस्ट पार्टी से ताउम्र जुड़े रहे। अपने राजनीतिक जीवन में इन्होंने 12 बार चुनाव लड़ा, मगर इन्हें दो बार 1977 और 1980 ही जीत मिल सकी थी।

Related Articles

Back to top button
E-Paper