आर्थिक तंगी के चलते पटरी दुकानदार ने जहर खाकर की आत्महत्या

लखनऊ। शासन-प्रशासन की उदासीनता के चलते एक पटरी दुकानदार ने आत्महत्या कर ली। जीतू राजपूत अमीनाबाद में गाढ़ा भंडार लाइन में उषा मशीन के आगे ठेला लगाता था। विगत सात माह से दूकान बंद थी। आगे भी दूकान खुलने की संभावना नजर नहीं आ रही थी।

जानकारी के मुताबिक़ अमीनाबाद में गाढ़ा भंडार लाइन में उषा मशीन के आगे पटरी पर दुकान लगाने वाला जीतू राजपूत पुत्र स्वर्गीय राम आसरे हरी नगर दुगनवा चौकी के पास का रहने वाला है। वह ठेला लगा कर अपने परिवार का भरण पोषण करता था। लॉकडाउन के चलते पिछले सात माह से उसकी दूकान बंद थी। दुकान ना लगा पाने की वजह से वह आर्थिक तंगी का शिकार हो गया था। इसी वजह से जीतू ने गत गुरुवार को जहर खाकर लिया।

जीतू की हालत बिगने पर उसे अस्पताल में भर्ती क्यया गया। शनिवार को उसकी मौत हो गई। जीतू अपने पीछे पांच साल का बेटा तथा एक कुंवारी बहन जुली, विधवा मां व पत्नी को छोड़ गया है। अमीनाबाद पटरी दुकानदार संगठन के महामंत्री दीपक सोनकर ;शैलू’ ने बताया कि मंगलवार शाम को अमीनाबाद में पटरी दुकानदारों की शोकसभा होगी।

 

Related Articles

Back to top button
E-Paper