फेसबुक ने की नेटफ्लिक्स की आलोचना, ‘द सोशल डिलेमा’ को बताया विकृत

फेसबुक

नई दिल्ली। एक तरफ जहां हममें से अधिकांश ने नेटफ्लिक्स की नई डॉक्यूमेंट्री ‘द सोशल डिलेमा’ को पसंद किया, वहीं फेसबुक ने इसकी यह कहते हुए अलोचना की है कि इसमें कंटेट को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है और चीजों को सनसनीखेज तरीके से दिखाया गया है। डॉक्युमेंट्री में दिखाया गया है कि कैसे जाता सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म यूजर्स को एक प्रोडक्ट माना जाता है और यूजर्स गलत जानकारी फैलाते हैं।

फेसबुक ने डॉक्युमेंट्री की आलोचना करते हुए कहा कि यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को तोड़-मरोड़ कर पेश करती है और यह जटिल सामाजिक समस्याओं के प्रति सहज रूप से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को बलि का बकरा बना रही है?  ‘द सोशल डिलेमा’ ने लोगों पर सोशल नेटवर्किं ग के खतरनाक प्रभाव को दिखाकर सबका ध्यान आकर्षित किया है, तकनीकी विशेषज्ञों ने अपनी ही क्रिएशन को लेकर आगाह किया है।

यह नकारते हुए कि फेसबुक यूजर्स को एक प्रोडक्ट के रूप में मानता है, इसने कहा कि यह एक एड-सपोर्टेड प्लेटफॉर्म है, जिसका अर्थ है कि विज्ञापन बेचने के जरिए यह बाकी सभी को मुफ्त में जुड़ने की सुविधा देता है। कंपनी ने एक बयान में कहा, “यह मॉडल छोटे व्यवसायों और उद्यमियों को नए ग्राहकों को खोजने और बड़े ब्रांड के साथ प्रतिस्पर्धा करने देता है। लेकिन जब बिजनेस करने वाले फेसबुक पर विज्ञापन खरीदते हैं, तब भी वे नहीं जानते कि आप कौन हैं।”

ये भी पढ़ें- लखीमपुर खीरी: हाथीपुर में गुरुद्वारे के पीछे शव मिलने से मचा हड़कंप

इसने कहा कि “हम आपकी जानकारी को किसी को नहीं बेचते हैं। आप हमेशा अपनी विज्ञापन प्राथमिकताओं में आपको दिए गए ‘हितों’ को देख सकते हैं, और यदि आप चाहें, तो इसे हटा दें।” जेफ ओर्लोव्स्की की डॉक्यूमेंट्री पिछले महीने नेटफ्लिक्स पर रिलीज हुई थी, जिसमें संदेश दिया गया है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म गैर-कानूनी रूप से अपनी शक्ति का इस्तेमाल  कर रहे हैं, समाज को गलत जानकारी के साथ  बांट रहे हैं।

फेसबुक ने कहा कि उसके पास ऐसी नीतियां हैं जो बिजनेस को लोगों के बारे में संवेदनशील डेटा भेजने से रोकती हैं, जिसमें यूजर्स की स्वास्थ्य जानकारी या सोशल सिक्योरिटी नंबर भी शामिल हैं। नेटफ्लिक्स द्वारा अभी इस पर टिप्पणी की जानी बाकी है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper