पंचायत चुनाव में कोरोना से जान गंवाने वाले कर्मचारियों के परिजनों को मिलेंगे 30-30 लाख रुपये

उत्तर प्रदेश सरकार ने पंचायत चुनाव में कोरोना संक्रमण की वजह से जान गंवाने वाले कर्मचारियों के परिजनों को मदद करने का ऐलान किया है। सोमवार को सरकार ने प्रत्येक मृतक कर्मचारी के परिजनों को 30-30 लाख रुपये देने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। इसके लिए राज्य चुनाव आयोग ने अपनी नियमावली में बदलाव किया है और चुनावी ड्यूटी के समय को 30 दिन माना है, जो चुनाव की तारीख से आगे का समय होगा।

दरअसल, त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के दौरान शिक्षक और दूसरे कर्मचारी बड़े पैमाने पर संक्रमण की चपेट में आए थे। शिक्षक संघों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में कुल 1621 शिक्षकों, शिक्षा मित्रों और शिक्षा अनुदेशकों ने जान गंवाई है। हालांकि, शिक्षा विभाग राज्य चुनाव आयोग की गाइडलाइन के आधार पर सिर्फ तीन शिक्षकों की मौत होने का दावा कर रहा था। इस पर विपक्ष और शिक्षक संघों ने तीखा ऐतराज जताया था।

लोगों की बढ़ती नाराजगी को देखते हुए राज्य सरकार ने चुनाव आयोग से अपनी नियमावली में बदलाव करने का अनुरोध किया था। इसी क्रम में चुनाव ड्यूटी के समय को चुनाव की तारीख से अगले 30 दिन तक किया गया है, जिसमें पहले किसी कर्मचारी के चुनाव ड्यूटी के लिए घर से निकलने और वापस घर पहुंचने तक का समय ही गिना जाता था।

सरकार ने अपने फैसले में कोविड और पोस्ट कोविड दोनों ही तरह जान गंवाने वाले कर्मचारियों के परिजनों को शामिल किया है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper