कानपुर में किसान ने अपने धान में लगाई आग, तौल न होने से था आहत

किसान

कानपुर। किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार बराबर प्रयास कर रही है, पर अधिकारी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। इन दिनों धान क्रय केन्द्रों पर जमकर लापरवाही बरती जा रही है और किसान परेशान हो रहे हैं। इसी तरह की परेशानी से आहत होकर चौबेपुर धान केन्द्र पर एक किसान ने अपने ही धान के बोरों में आग लगा दी। आग देख धान केन्द्र पर अफरा-तफरा मच गयी और आग को बुझाते हुए किसान के धान की खरीद करवायी गयी। मामले का अधिकारियों ने संज्ञान लिया और मौके पर जाकर जांच में जुट गये।

गाजियाबाद शमशान हादसा : ईओ निहारिका सिंह की जमानत याचिका खारिज

बिल्हौर तहसील के चौबेपुर कस्बे में खाद्य एवं विपणन विभाग का धान क्रय केन्द्र है, जहां पर किसान धान की बिक्री उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कर रहे हैं। किसानों की किसी तरह की परेशानी न हो इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सख्त आदेश दिये हुए हैं, इसके बावजूद धान क्रय केन्द्र अपनी मनमानी पर उतारु हैं। किसान अपने धान की बिक्री के लिए कई दिनों तक धान क्रय केन्द्रों पर अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं।

इसी तरह के इंतजार से आहत होकर चौबेपुर क्षेत्र के खरगपुर निवासी किसान नागेंद्र सिंह ने चौबेपुर धान क्रय केन्द्र पर अपने ही धान के बोरों में आग लगा दी। धान के बोरों में लगी आग देख धान केन्द्र प्रभारी अर्जुन पाठक के हाथ पांव फूल गये और किसी तरह से आग बुझवाते हुए फौरन किसान के धान की खरीद करवायी। यही नहीं अन्य रात भर तौल होती रही जिससे अन्य किसान भी खुश दिखे। वहीं मामले की जानकारी पर शुक्रवार को खाद्य एवं विपणन विभाग सहित प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और जांच में जुट गये। खबर लिखे जाने तक संबंधित अधिकारी जिला खाद्य विपणन अधिकारी संतोष कुमार यादव, एसडीएम बिल्हौर मीनू राणा, धान क्रय केन्द्र के जनपद प्रभारी एडीएम आपूर्ति और संभागीय विपणन अधिकारी रंगबहादुर का फोन नहीं लग रहा है।

लखनऊ में इस दिन से होगी महिला सैन्य पुलिस के लिए खुली भर्ती रैली, जारी किए गए प्रवेश पत्र

किसान ने बताया कि 28 दिसंबर को लगभग 50 क्विंटल धान लेकर धान खरीद केंद्र गए थे। केंद्र के कर्मचारी एक हफ्ते से टालमटोल कर रहे थे और धान खुले में पड़ा रहा। धान की रखवाली के लिए बटाईदार सुनील कश्यप 10 दिनों से 24 घंटे अपने धान की रखवाली को लगा रखा था। केन्द्र के कर्मचारी ने गुरुवार को धान की तौल की बात कही, पर तौल नहीं हो सकी। इससे आजिज होकर अपने धान को बोरों में भरकर आग लगा दी।

Related Articles

Back to top button
E-Paper