यूपी: जहरीली शराब कांड में शासन का चला हंटर, जिला आबकारी अधिकारी समेत चार कर्मी निलम्बित

बजट

चित्रकूट। जिले के राजापुर थानान्तर्गत खोपा गांव में जहरीली शराब पीने से चार लोगों की मौत के मामले को शासन ने गंभीरता से लिया है। अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्डी ने इस मामले में चित्रकूट के जिला आबकारी अधिकारी चतरसेन समेत चार आबकारी कर्मियों को निलम्बित किया है। 

जिले के राजापुर थाना क्षेत्र के खोपा गांव में शनिवार की देर रात कई लोगों ने एक साथ बैठकर कच्ची शराब पी थी। शराब पीने के बाद सभी लोग अपने-अपने घर चले गए। देर रात सभी की अचानक हालत बिगड़ने लगी। रविवार की सुबह मुन्ना सिंह और सीताराम सिंह बघेल की इलाज के दौरान राजापुर में जबकि सत्यम और दुरविजय की इलाज के लिए प्रयागराज मेडिकल कालेज ले जाते समय मौत हो गई थी। जहरीली शराब के चित्रकूट में चार लोगों की मौत की खबर से शासन-प्रशासन में हडकंप मच गया था। इस जहरीली शराब कांड को शासन ने गंभीरता से लिया है।

इस घटना के लिए जिम्मेदार मानते हुए अपर मुख्य सचिव आबकारी संजय आर भूसरेड्डी ने चित्रकूट जिले के जिला आबकारी अधिकारी चतरसेन, आबकारी निरीक्षक अशरफ अली सिद्दीकी,सिपाही सुशील और संदीप मिश्रा को सस्पेंड कर दिया है।

गौरतलब है कि चित्रकूट जिले में कई सालों से जिला आबकारी अधिकारी के पद पर तैनात चतरसेन के कार्यकाल में कच्ची शराब का कारोबार ने कुटीर उद्योग का रूप ले लिया था। वहीं आबकारी निरीक्षक अशरफ अली सिद्दीकी के कार्यकाल में यूपी-एमपी की सीमा पर संचालित शराब की दुकानें ओवर रेटिंग के लिए हमेशा सुर्खियों में रही है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper