यूपी: गंगा एक्सप्रेस-वे के लिए 11 कंपनियों ने दिखाई रुचि, जून में होगा शिलान्यास

गंगा एक्सप्रेस-वे

मेरठ से प्रयागराज तक प्रस्तावित है 594 किमी लम्बा गंगा एक्सप्रेस-वे

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में मेरठ से प्रयागराज तक के लिए प्रस्तावित 594 किमी लम्बे गंगा एक्सप्रेसवे को बनाने के लिए देश और विदेश की 11 कंपनियों ने रूचि दिखाई है। प्रदेश के सबसे बड़े इस एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास जून माह में होना है। 

उप्र में नए किरायेदारी कानून को मिली मंजूरी, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी और  औद्योगिक विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव आलोक कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को एक्सप्रेस-वे के निर्माण हेतु निविदा मूल्यांकन समिति की बैठक हुई। इस दौरान 11 कंपनियों के रुचि की अभिव्यक्ति अभिलेख (ईओआई) प्रस्ताव प्राप्त हुए। इसमें दो कंपनियां मलेशिया व दक्षिण कोरिया की हैं। 

मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी का कहना है कि गंगा एक्सप्रेस-वे पीपीपी माडल में बनेगा। उन्होंने बताया कि यह एक्सप्रेस-वे मेरठ से शुरू होकर हापुड़, बुलन्दशहर, अमरोहा, सम्भल, बंदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ पर होते हुए प्रयागराज तक जाएगा। उन्होंने बताया कि इसकी अनुमानत लागत 36410 करोड़ रुपये होगी। इस दौरान 11 कंपनियों के रुचि की अभिव्यक्ति अभिलेख (ईओआई) प्रस्ताव प्राप्त हुए। इसमें दो कंपनियां मलेशिया व दक्षिण कोरिया की हैं। 

यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी और  औद्योगिक विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव आलोक कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को एक्सप्रेस-वे के निर्माण हेतु निविदा मूल्यांकन समिति की बैठक हुई। इस दौरान 11 कंपनियों के रुचि की अभिव्यक्ति अभिलेख (ईओआई) प्रस्ताव प्राप्त हुए। इसमें दो कंपनियां मलेशिया व दक्षिण कोरिया की हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper