गहलोत ने विपक्ष पर बेरोजगार युवकों को भड़काने का लगाया आरोप

जयपुर. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में विपक्ष भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर बेरोजगार युवकों को भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा है कि विधानसभा उपचुनाव में उसकी जो दुगर्ति हुई हैं उससे उसके नेता घबराये हुए हैं।

     गहलोत ने आज यहां प्रेस कांफ्रेस में यह बात कही। उन्होंने कहा कि लखनऊ में जाकर धरना देने का कोई तुक और मतलब नहीं है। उन्होंने कहा कि विपक्ष वाले उनको भड़का रहे हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा उपचुनाव में भाजपा की जो दुगर्ति हुई हैं, अब भाजपा नेता किस मुंह से अपने पद पर बने रहे, उन्हें लगता हैं कि कब हटा दे, अब बेरोजगार युवाओं को लखनऊ भेजने का क्या मतलब हैं।

     उन्होंने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा के क्षेत्र हिमाचल प्रदेश में भाजपा हारी हैं। हिमाचल और राजस्थान इन दो राज्यों में उसके हारने से जो संदेश गया हैं उससे उसके नेता घबराये हुए हैं। पूरे देश में चर्चा हैं कि यह कैसे हो गया। राजस्थान में इसके उम्मीदवार तीसरे-चौथे स्थान पर रहे और जमानत जब्त हो जाये, इससे ये लोग घबराये हुए हैं। उन्होंने कहा कि भगवान करे कि ये जनता की भलाई के लिए घबराये हुए रहे।

   उन्होंने कहा कि जो पढ़ाई नहीं कर रहा है वे बना रहे यूनियन, यूनियन बनाकर सरकार पर बना  रहे दबाव, कुछ लोग चुनाव में खड़ा होना चाहते है और उनकी नौकरी नौकरी लग भी  जाती है तो वे करेंगे नहीं, सिर्फ युवाओं को नेतागिरी करना चाहते हैं, उन्हें लगता है कि कल बीजेपी एवं कांग्रेस टिकट देगी जबकि उनके कोई साथ नहीं है।

    गहलोत ने युवाओं से कहा कि ऐसे लोगों के चक्कर में मत आओ और अपना काम करो , पढाई करो, आपके लिए नौकरियों के द्वार हमने खोल रखे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एक लाख लोगों को नौकरियां दी गई हैं और हजारों की लगने वाली हैं, देश में ऐसा कहीं नहीं हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने न्यायालय से मामले वापस लेकर 28 हजार को नौकरी दी हैं। आज तक ऐसा नहीं हुआ।   

     मुख्यमंत्री ने प्रदर्शन को लेकर कहा कि देश में अब नई स्थिति बनती जा रही है जबकि पहले किसी मांग को लेकर प्रदर्शन कलक्टर के बाहर किया जाता था ताकि उनकी मांग सरकार तक पहुंच जाये। लेकिन अब तो राजनीतिक पार्टियों के घरों के बाहर प्रदर्शन होने लगे हैं जो गलत हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper