गाजियाबाद : लापता उद्यमी अजय पांचाल की हत्या, सुनसान सड़क पर मिला शव

गाजियाबाद राष्ट्रीय राजधानी से सटे गाजियाबाद में अपराध का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है और पुलिस अपराधियों पर अंकुश नहीं लगा पा रही है।

गाजियाबाद

 

मुरादनगर के भाजपा विधायक नरेश त्यागी की हत्या में अभी पुलिस कोई सुराग नहीं लगा पाई है कि मंगलवार को साहिबाबाद थाना क्षेत्र में एक उद्यमी की हत्या कर दी गई। उद्यमी का शव मंगलवार को लिंक रोड थाना क्षेत्र में सौर उर्जा मार्ग से बरामद हुआ। जनपद में बढ़ रहे अपराधों से आम लोगों में दहशत का माहौल है। परिजनों ने अपहरण के बाद हत्या की आशंका जताई है।

जिस उद्यमी की हत्या की गई है उनका नाम अजय पांचाल है जिनकी उम्र 38 साल थी। वह राजेंद्र नगर में एलायड केबिल के नाम से अपनी फैक्ट्री चलाते थे और क्षेत्र में बड़े उद्यमियों की श्रेणी में शामिल थे।

पारिवारिक सूत्रों के मुताबिक अजय पांचाल सोमवार की दोपहर को फैक्ट्री से लंच के लिए निकले थे लेकिन घर नहीं पहुंचे। पहले उन्हें संभावित स्थानों पर तलाशा गया लेकिन उनका कोई सुराग नहीं लग सका तो पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर ली।

सोमवार की शाम को अजय की ब्रेजा कार साहिबाबाद थाना क्षेत्र के हज हाउस के पास लावारिस अवस्था में खड़ी पाई गई। इसके बाद पुलिस ने भी उनकी तलाश शुरू की लेकिन कोई सुराग नहीं लग सका। इसी बीच आज सुबह लिंक रोड थाना क्षेत्र के सौर उर्जा मार्ग पर एक व्यक्ति के शव पडे़ होने की सूचना पुलिस को मिली। पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची और पहचान के प्रयास किए। साथ ही अजय पांचाल के परिजनों को भी सूचना दी जिसके बाद परिजन मौके पर पहुंचे और उन्होंने शव की पहचान अजय पांचाल के रूप में की। प्रथम दृष्टया अजय की हत्या तार से गला घोटकर की गई है।

परिजनों का कहना है कि उनके शरीर पर चोटों के भी निशान हैं। हालांकि एएसपी केशव कुमार का कहना है कि जाहिरी तौर पर पांचाल के शव पर किसी चोट का निशान नहीं है। केशव कुमार ने बताया कि उनकी मृत्यु के कारणों की जांच के लिए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है।

बढ़ते अपराधों से लोगों में भय का माहौल

गाजियाबाद में पिछले कुछ दिनों के दौरान अपराधों की बाढ़ सी आ गई है। चंद दिन पहले ही मुरादनगर के भाजपा विधायक अजितपाल त्यागी के मामा नरेश त्यागी की यहां की पाॅश कालोनी लोहियानगर के सी ब्लाक में बदमाशों में उस समय सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जब वह सुबह की सैर के लिए गए थे। इसी तरह से करीब तीन महीने पाले बिल्डर विक्रम त्यागी भी रहस्मय ढंग से लापता हो गए थे और उनकी कार भी संदिग्ध परिस्थितियों में मिल गई थी लेकिन आज तक पुलिस उनक सुराग नहीं लगा सकी है जबकि मामले की जांच यूपीएसटीएफ द्वारा की जा रही है। लूटपाट की घटनाओं में भी इजाफा हुआ है।

 

Related Articles

Back to top button
E-Paper