उपभोक्ताओं के लिये कर्ज माफी की अभिनव योजना लाई है सरकार

उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन को करीब 90 हजार करोड़ रूपये के घाटे से उबारने के लिये सरकार उपभोक्ताओं के लिये कर्ज माफी की अभिनव योजना लाई है जिसके तहत एकत्र राजस्व से बिजली आपूर्ति की और बेहतर व्यवस्था करना संभव हो सकेगा।

सूबे के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने शनिवार को पत्रकारों को बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में लगभग 70 प्रतिशत एवं शहरी क्षेत्र में लगभग 25 प्रतिशत उपभोक्ता बिजली का बिल नही दे पाते हैं। यदि सभी लोग समय से अपने बिल का भुगतान कर दें तो बहुत जल्दी ही सस्ती और निर्बाध बिजली देने का संकल्प पूरा किया जा सकता है। इसीलिए सरकार कर्ज माफी की यह योजना लेकर आई है।

कोरोना और जीका वायरस के मरीजों की संख्या बढ़ी, प्रदेश में कोविड जांच बढ़ाने के निर्देश

योजना के अन्तर्गत घरेलू ग्रामीण उपभोक्ताओ के बकाया बिजली के बिल पर लगाए गए व्याज को पूरी तरह से माफ कर दिया जाएगा। दो किलोवाट तक के ग्रामीण घरेलू उपभोक्ताओं की बकाया राशि पर लगे व्याज को शत प्रतिशत माफ कर दिया जाएगा । उसे बिल की मूल राशि को भी 6 किश्तों में जमा करने की सुविधा दी गई है।

उन्होंने बताया कि कामर्शियल उपभोक्ताओं को अभी तक किसी भी प्रकार की छूट नही दी जाती थी मगर पहली बार ऐसे छोटे उपभोक्तों को छूट में शामिल किया गया है। ऊर्जा मंत्री ने बताया कि कोविद के कारण ग्रामीण क्षेत्र के या शहरी क्षेत्र के छोटे दुकानदार को भी कर्ज माफी योजना में शामिल किया गया है और दो किलोवाट तक के दुकानदारोें की बकाया राशि पर लगे व्याज को माफ कर दिया गया है ।

शर्मा ने बताया कि कामर्शियल में 2 किलोवाट से 5 किलोवाट के लिए व्याज में 50 प्रतिशत छूट की व्यवस्था की गई। दो किलोवाट से कम के कामर्शियल उपभोक्ताओं को शत प्रतिशत छूट की व्यवस्था में समायोजित किया गया है कर्ज माफी में बकाया धनराशि को 6 किश्तों मे ंदेने की सुविधा ग्रामीण अथवा शहरी क्षेत्र के केवल घरेलू उपभोक्ताओं के लिए ही है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper