मेट्रो की ग्रे लाइन को दिखाई हरी झंडी

मेट्रो की ग्रे लाइन को दिखाई हरी झंडी

नई दिल्ली। मेट्रो की ग्रे लाइन पर बने ढांसा स्टेशन का शनिवार दोपहर उद्घाटन हुआ। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हरी झंडी दिखाकर ग्रे लाइन मेट्रो पर ढांसा स्टेशन से नजफगढ़ के लिए मेट्रो को रवाना किया। इस लाइन के खुलने से नजफगढ़ और इसके आसपास के ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लाखों लोगों को फायदा होगा। आज शाम पांच बजे से आम यात्री इस मेट्रो सेक्शन पर सफर कर सकेंगे।

कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि यह छोटा स्ट्रेच, लेकिन बेहद महत्वपूर्ण है। यहां के लोगों की लंबे समय से मेट्रो की मांग थी। इससे ग्रामीण क्षेत्र मेट्रो नेटवर्क से जुड़ा है। महामारी के पहले रोजाना करीब 65 लाख यात्राएं दिल्ली मेट्रो में हो रही थी। उनका मानना है कि भविष्य में मेट्रो यात्रा की संख्या अकेले दिल्ली में करीब 80 लाख तक पहुंचेगी। वहीं, देशभर में अभी 85 लाख यात्राएं हो रही हैं। 2022 में देशभर में मेट्रो नेटवर्क करीब 900 किलोमीटर हो जाएगा। मेट्रो के पहुंचने से लोगों को काफी सुविधा होती है।

ट्रांसपोर्ट की व्यवस्था लोगों को उस क्षेत्र में घर खरीदने के लिए कारण देती है। उन्होंने कहा कि मेट्रो अभी केवल दिल्ली में शुरुआत है। दिल्ली को विश्व स्तर का शहर बनाने के लिए दिल्ली सरकार के साथ मिलकर काम करेंगे। आने वाले समय में मेट्रो का चौथा फेज बन रहा है, जिसके बाद मेट्रो नेटवर्क का अच्छा विस्तार होगा और दिल्ली आगे बढ़ेगी।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि नजफगढ़ क्षेत्र के लिए यह महत्वपूर्ण पल है। आसपास के करीब 50 गांव से लोग दिल्ली काम करने आते हैं। फिरनी चौक पर रोजाना यहां के लोग परेशान होते थे, लेकिन अब इस मेट्रो के बनने से वह चौक क्रॉस करने की जगह सीधे ढांसा बस स्टैंड से ही मेट्रो ले सकेंगे। इतना ही नहीं झज्जर के बॉर्डर के पास रहने वाले लोगों को भी सहूलियत होगी। चुनाव के समय दिल्ली सरकार ने वादा किया था कि यह सेक्शन बनवाएंगे और केंद्र सरकार के सहयोग से इस सेक्शन को पूरा किया।

मेट्रो के प्रबंध निदेशक डॉ. मंगू सिंह ने कहा कि सेक्शन महज 1.2 किलोमीटर का है, लेकिन यात्रियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। पहला ऐसा भूमिगत स्टेशन है, जहां पर 300 गाड़ियों के पार्किंग की व्यवस्था है। सांस्कृतिक लिहाज से भी यह मेट्रो स्टेशन बेहद महत्वपूर्ण है। इस स्टेशन को कलाकृतियों के जरिए सजाया गया है। नजफगढ़ क्षेत्र को मेट्रो की कनेक्टिविटी मिलना द्वारका से ग्रे लाइन शुरू होने से हो गई थी, लेकिन ढांसा स्टैंड के जुड़ने से बड़ी संख्या में यात्री इससे जुड़ सकेंगे। महामारी के दौरान भी डीएमआरसी ने काम करते हुए इस सेक्शन को पूरा किया, जो एक बड़ी उपलब्धि है।

शहरी विकास मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने कहा कि इस सेक्शन को बनवाने का श्रेय मुख्य रूप से सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा को जाता है। उन्होंने लगातार पीछे पड़कर इस सेक्शन को पास करवाया। आज दिल्ली-एनसीआर में 392 किलोमीटर नेटवर्क में 286 स्टेशन बन चुके है। आज भारत में 733 किलोमीटर चालू हो गया है। अभी भारत में मेट्रो नेटवर्क के 27 शहरों में 1050 किलोमीटर नेटवर्क पर काम चल रहा है।

इसके पूरा होने पर भारत का मेट्रो नेटवर्क 1,800 किलोमीटर का हो जाएगा। मजेंटा लाइन पर चालक रहित सेवा शुरू हो चुका है। पिंक लाइन पर इसके शुरू होते ही भारत चालक रहित मेट्रो के नेटवर्क में नंबर वन हो जाएगा। पूरा मेट्रो नेटवर्क का कंट्रोल सिस्टम भी अब भारत में ही बनाया जा रहा है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper