गुर्जर आंदोलन : छठें दिन भी दिल्ली-मुंबई रेलमार्ग पर डटें हैं गुर्जर

जयपुर। भरतपुर जिले के पीलूपुरा में एमबीसी आरक्षण समेत विभिन्न मांगों को लेकर दिल्ली-मुंबई रेल ट्रेक जाम कर बैठे गुर्जर समुदाय का आंदोलन शुक्रवार को छठें दिन भी जारी है। कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला और उनके पुत्र विजय बैंसला इस आंदोलन का नेतृत्व कर रहे हैं। आंदोलन को खत्म करने किए लिए की जा रही सरकारी कोशिशें परवान नहीं चढ़ पा रही है।

युवा एवं खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना ने कहा है कि सरकार ने मानने योग्य सभी मांगों को मान लिया है, कर्नल बैंसला और संघर्ष समिति आंदोलन छोड़ वार्ता के लिए आना चाहिए। उन्होंने कहा है कि अति पिछड़ा वर्ग के शैक्षणिक, सामाजिक एवं आर्थिक विकास के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पिछली दो सरकारों में कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि भरतपुर जिले में पीलूपुरा स्थित रेलवे ट्रैक आंदोलनकारियों ने कब्जा जमा रखा है। शुक्रवार को छठें दिन भी गुर्जर रेलवे ट्रैक पर जमे रहे। स्वास्थ्य कारणों से कर्नल बैसला भी पूरे दिन ट्रैक पर नहीं आए, लेकिन उनके बेटे विजय बैंसला ने कहा कि सरकार शांतिदूतों के साथ बैकलॉग भर्तियों समेत अन्य मांगों को पूरी करने के आदेश की कॉपी भेजे, तभी यह आंदोलन खत्म होगा।।

गुर्जर आंदोलन के चलते पुलिस और प्रशासन बीते 6 दिनों से पीलूपुरा एवं बयाना क्षेत्र में डेरा डाले हुए हैं। प्रशासन ने क्षेत्र में 2800 पुलिसकर्मी तैनात कर रखे हैं। आंदोलन के कारण पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी भी बयाना से आंदोलन पर नजर लगाए हुए हैं। आंदोलन से बस सेवा और दिल्ली-मुंबई ट्रेक पर यात्री व मालगाडिय़ों का आवागमन बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

Related Articles

Back to top button
E-Paper