निजी अस्पतालों में मरीजों से मनमानी वसूली पर सीएम सख्त, अधिकारियों को दिए कार्रवाई करने के निर्देश

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने निजी अस्पतालों में मरीजों से मनमाने पैसे लिए जाने को लेकर कड़ा आदेश जारी किया है। उन्होंने अधिकारियों को निजी अस्पतालों में मरीजों से मनमानी वसूली की शिकायत पर कठोर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। सीएम योगी ने कहा कि, “इस आपदा की घड़ी में निजी अस्पतालों द्वारा कोविड संक्रमित मरीजों से ओवरचार्जिंग की शिकायत प्राप्त हो रही है। यह व्यवस्था का उल्लंघन तो है ही, मानवता के विरुद्ध भी है। सभी जिलों में ऐसी गतिविधियों पर पूरी नजर रखी जाए। ऐसी शिकायतों का तत्काल संज्ञान लेते हुए इनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।”

इसके साथ सीएम योगी आदित्यनाथ ने रेमेडेसविर सहित दूसरी जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी में शामिल मेडिकल या पैरामेडिकल स्टाफ पर भी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जो मेडिकल या पैरामेडिकल स्टाफ कालाबाजारी में शामिल हों, उनकी प्रोफेशनल डिग्री को निलंबित कर दिया जाए।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को हाईकोर्ट में चल रहे वैक्सीनेशन सेंटर का निरीक्षण किया। उनके साथ सीनियर जस्टिस ऋतुराज अवस्थी, एएजी विनोद शाही,एसीएस सूचना नवनीत सहगल, सीपी डीके ठाकुर और जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश मौजूद रहे। इस दौरान एएजी विनोद शाही ने खाली पड़ी हाईकोर्ट डिस्पेंसरी को कोविड हॉस्पिटल बनाने का सुझाव दिया। इस पर सहमति जताते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने शासन को प्रस्ताव भेजने के लिए कहा है।

हालांकि, कोरोना संकट से निपटने के इंतजाम को लेकर प्रदेश सरकार को इलाहाबाद हाईकोर्ट की सख्त टिप्पणी का सामना करना पड़ रहा है। प्रदेश के छोटे शहरों, कस्बों व ग्रामीण इलाकों में संक्रमण के तेज प्रसार और इलाज में होने वाली लापरवाही पर तीखी टिप्पणी करते हुए हाईकोर्ट ने कहा कि प्रदेश की स्वास्थ्य व्यवस्था राम भरोसे चल रही है, इसमें तत्काल सुधार करने की जरूरत है।

इस पर विपक्षी दल समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखि‍लेश यादव ने सरकार को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट की इस कठोर टिप्पणी के बाद तो राज्य के नेतृत्व को जाग जाना चाहिए। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के जिलों के दौरे को द‍िखावटी करार देते हुए उन्‍होंने कहा कि इससे कुछ नहीं होने वाला है, मरते हुए लोगों के प्रत‍ि सच्ची संवेदना और सक्रियता दिखाइए।

Related Articles

Back to top button
E-Paper