किसानों को आंदोलनजीवी कहकर मोदी ने पहुंचाई प्रधानमंत्री पद की गरिमा को ठेस : टिकैत

किसानों

बागपत नए कृषि कानून के विरोध में गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों के धरने के समर्थन में बुधवार को दोघट थाना क्षेत्र में पंचायत हुई। इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि कृषि कानून वापसी बिना किसानों की घर वापसी नहीं होगी। किसानों को आंदोलनजीवी कहकर प्रधानमंत्री मोदी अपनी सोच जाहिर कर रहे हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री पद की गरिमा को ठेस पहुंचाई है। 

साल 2019 में राजद्रोह के कितने मामले किए गए दर्ज? गृह मंत्रालय ने दी बड़ी जानकारी

टिकैत ने कहा कि संसद में किसानों के लिए पीएम द्वारा बोला गया आंदोलनजीवी शब्द से पता चलता है कि सरकार किसानों के हित में नहीं है। किसान शांति का हथियार है, वह सदा ही शांति चाहता है, लेकिन सरकार किसानों को बर्बाद करने पर तुली हुई है। सरकार की ओर से किसानों के साथ बातचीत करने के बयान तो जारी किए जाते हैं, लेकिन बात नहीं करते हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार समझ ले कि किसान भी धरने से वापस तभी लौटेंगे, जब कृषि कानून और किसानों पर दर्ज मुकदमे वापस कराए जाएंगे। पंचायत की अध्यक्षता करते हुए देशखाप चैधरी सुरेंद्र सिंह ने कहा कि किसानों की ताकत को सरकार कमजोर न समझें, किसान अपना हक लेकर ही पीछे हटेंगे। पंचायत में राजेंद्र, राजकुमार, ओमप्रकाश पंवार, बॉबी तोमर, ऋषिपाल, बिजेंद्र, सुदेशपाल, नरेंद्र राठी, शहीद, जहीर हसन, धर्मेंद्र राठी, अरविंद राठी, सुरेश, रामनिवास, मनोज पंवार, पवन राठी, सहेंद्र, सुरेंद्र सिंह, अशोक आदि मौजूद रहे।

Related Articles

Back to top button
E-Paper