…तो इस कारण से जानवरों से अधिक होती है इंसानों की उम्र!

इंसानों

इंसान हो या जानवर सभी की मौत का दिन तय होता है। हम सभी जानते हैं कि जानवरों की उम्र इंसान से कम होती है। इंसान के मुकाबले वो तेजी से बूढ़े होते हैं और खत्म हो जाते हैं। एक रिसर्च के मुताबिक पालतू कुत्तों की उम्र का गणित समझना आसान नहीं है। अगर कोई पालतू कुत्ता दस साल भी जी ले तो माना जाता है की उसने इंसानी ज़िन्दगी के 70 साल जी लिए हैं।

बता दें की कुत्तों की ज़्यादतर नस्लों में शारीरिक संबंध बनाने की ख़्वाहिश 6 से 12 साल की उम्र में ही पैदा होने लगती हैं। वहीं बहुत सी नस्ल के कुत्ते 20 साल तक जीते हैं। ऐसे में अगर माना जाए कि कुत्ता एक साल में इंसानी जिंदगी के सात साल के बराबर जीता है तो कुछ नस्ल के कुत्तों की उम्र 120 साल हुई। यानी इंसानी जिंदगी से दो गुना ज्यादा। सभी कुत्तों की उम्र उनकी नस्ल पर निर्भर करती है। मिसाल के लिए छोटे कुत्ते ज्यादा लंबी उम्र जीते हैं और बड़े कुत्तों के मुकाबले धीमी गति से बूढ़े होते हैं।

उम्र की एक जैविक परिभाषा है। जिसका पैमाना सेहत की गुणवत्ता के आधार पर होता है। यानी अगर किसी की उम्र 20 साल है, लेकिन उसकी सेहत खराब रहती है तो जाहिर है उसका शरीर तेजी से कमजोर हो रहा है और वो बूढ़ापे की ओर बढ़ रहा है। इसके तहत किसी व्यक्ति की बीमारियां, उसके दिन भर के कामकाज का ब्यौरा, और उसकी समझ को परखा जाता है। फिर इसे दो स्तर पर बांटा जाता है। पहला है जीन का स्तर। अगर आप अपनी दिनचर्या और खानपान सही रखते हैं तो आप 60 की उम्र में भी 40 की ही जिंदगी गुजारेंगे।

वहीँ अगर जानवरों की सभी प्रजातियों की उम्र का अध्य्यन किया जाए तो उनकी जैविक आयु की परिभाषा, कालानुक्रमिक परिभाषा से ज्यादा कारगर है। रिसर्चर कहते हैं कि जैविक आयु मापना एक मुश्किल काम है। सभी स्तनधारियों के डीएनए में समय-समय पर बदलाव होते रहते हैं। बता दें कि

अलग-अलग तरह की प्रजातियों में कई तरह के शारीरिक विकास एक समान होते हैं जैसे दांतों का निकलना। लिहाजा इंसान और लेबरेडोर कुत्ते की मिथाइलेशन स्तर का मिलान करते हुए रिसर्चरों ने एक फॉर्मूला तैयार किया है जिसकी बुनियाद पर कुत्तों की सही उम्र का अंदाजा लगाया जा सकता है।

माना जाता है कि कुत्ते की जिंदगी का पहला साल इंसान की जिंदगी के 31 साल के बराबर मापा जाता है। फिर इसके बाद कुत्तों की कानानुक्रमिक आयु इंसान की आयु के डबल हो जाती है। यानी अगर इंसान की उम्र के आठ साल होते हैं तो वो कुत्तों की उम्र के लिए तीन गुने गिने जाते हैं।

Related Articles

Back to top button
E-Paper